ताजा अपडेट के लिए सब्सक्राइब करें

Text to Identify Refresh CAPTCHA कैप्चा रीफ्रेश करें

*साइन-अप करके मैं रिलायंस मनी से ई-मेल प्राप्त करने के लिए सहमत हूं

 

जीरो बेस्ड बजटिंग - यह क्या है और इसके क्या फायदे हैं?

शून्य आधारित बजट निर्धारण

बजट निर्धारण की पारंपरिक विधि के विपरीत, शून्य आधारित बजट निर्धारण में आपके पास तुलना करने के लिए कोई बेंचमार्क बजट नहीं होता। जैसा कि नाम से पता चलता है, इसमें बजट की तकनीकी रूप से शुरूआत शून्य से होती है। इस प्रकार के बजट के लिए आपको प्रत्येक संबंधित लागत जोड़ने से पहले उसका औचित्य सिद्ध करना होता है, जिससे आपको अनावश्यक और अस्पष्ट खर्चों पर रोक लगाने में मदद मिलती है जो आपके वित्त में सेंध लगा सकते हैं। सीज़न की शुरूआत में नया बजट तैयार करना होता है

अधिक समेकित और नियोजित इस विधि का महत्त्व इस बात में छिपा है कि यह आपको हर एक खर्च को बजट में समायोजित करने से पहले उसका मूल्य समझने और सत्यापित करने में सक्षम बनाता है। पिछले रूझान, बिक्री और व्यय बने रहने अपेक्षित नहीं होते और इसलिए वे आगे नहीं ले जाए जाते। इसमें, कोई व्यय पूर्व-निर्धारित नहीं होते और बजट शून्य आधार पर बनाया जाता है

लाभ

- लागतों की सटीकता और बेहतर लागत प्रबंधन

इस प्रकार का बजट निर्धारण, प्रत्येक विभाग को नकदी प्रवाह की विविध मदों पर पुनर्विचार करने, तथा उनके प्रचालन खर्चों की गणना करने को विवश करता है, जिससे लागतों का सटीक अनुमान हो पाता है। विभिन्न श्रेणियों में सभी खर्चों की स्पष्ट समझ, बेहतर लागत प्रबंधन भी सुगम बनाती है

- संसाधनों का आवंटन

चूंकि शून्य-आधारित बजट निर्धारण में आगामी समय अवधि के लिए पिछले आंकड़ों के बजाय वास्तविक आंकड़ों को देखा जाता है, इसलिए संसाधनों के आवंटन को लेकर आप सटीक आकलन कर पाते हैं

- व्यर्थ के खर्चों में कमी

प्रत्येक लागत को जांच के दायरे में लाने का एक लाभ ये है कि यह आपको सबसे महत्त्वपूर्ण खर्चे, लगभग व्यर्थ के खर्चों से अलग करने में मदद करता है। इससे कंपनी के लिए व्यर्थ के खर्चों में कटौती करते हुए सभी अनुत्पादक गतिविधियों को पहचानना व समाप्त करना आसान हो जाता है

- जानें, कि पैसा कहां जा रहा है

जीरो-बेस्ड बजटिंग प्रत्येक लागत श्रेणी में ध्यान से की गई मूल्यांकन की गारंटी होती है, कंपनी के लोगों को कुल खर्च की गई राशि से लेकर संबंधित विभाग को आवंटित की गई राशि तक, प्रत्येक यूनिट के बारे में सटीक जानकारी होती है

एक व्यवसाय मालिक के रूप में, अगले सीज़न के लिए बजट निर्धारण और अपनी वित्तीय योजना बनाते समय आपको प्रत्येक लागत को ध्यान में रखना होगा; और शून्य आधारित बजट निर्धारण यही करने में आपकी मदद कर सकता है। यदि आप अपने काम-काज का विस्तार करना चाहते हैं और अपने व्यवसाय को वृद्धि और उत्पादकता के अगले स्तर पर ले जाना चाहते हैं, तो रिलायंस मनी से व्यावसायिक विस्तार ऋण आपके साहसिक प्रयासों में सहायता कर सकता है