ताजा अपडेट के लिए सब्सक्राइब करें

Text to Identify Refresh CAPTCHA कैप्चा रीफ्रेश करें

*साइन-अप करके मैं रिलायंस मनी से ई-मेल प्राप्त करने के लिए सहमत हूं

 

आपकी आदर्श ईमेल मार्केटिंग रणनीति कैसी होनी चाहिए

लंबे समय से, ईमेल मार्केटिंग को मार्केटर्स और कंपनियों द्वारा संभावित ग्राहकों तक पहुंचने के लिए एक प्रमुख टूल के रूप में इस्तेमाल किया जाता रहा है। हालांकि किसी अन्य अभियान की तरह आपकी ईमेल मार्केटिंग रणनीति भी सुनियोजित होनी चाहिए, तभी यह सामने वालों पर अच्छा प्रभाव डाल सकती है

किसी भी व्यक्ति के इनबॉक्स में रोजाना सैकड़ों ईमेल आते हैं। वे सभी खोले नहीं जाते, और जो खोले भी जाते हैं, उनमें भी सब पर अपेक्षित कार्यवाही नहीं की जाती। यह आलेख आदर्श ईमेल मार्केटिंग रणनीति के पहलुओं को समझने में आपकी मदद करेगा, जो आपके लिए लंबे समय में लाभकारी सिद्ध होगी

 

1. उचित समय

एक बार आप द्वारा अपने लक्षित प्राप्तकर्ताओं के बारे में जानकारी जुटा लेने के बाद, समय और आवृत्ति ईमेल मार्केटिंग अभियान के मुख्य घटक होते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि आपके लक्षित प्राप्तकर्ता, आपसे भिन्न समय जोन में हो सकते हैं। उदाहरण के लिए, यदि आप भारत में हैं, और आपके संभावित ग्राहक यूके में हैं, तो ऐसे समय पर ईमेल भेजना सबसे उचित होता है जब उनके द्वारा उस पर क्लिक करके खोलने, और आवश्यक कार्यवाही किए जाने की संभावना सबसे ज्यादा हो

दूसरे शब्दों में, क्लिक-थ्रो-रेट और ओपेन-रेट जैसे परफार्मेंस इंडिकेटरों पर टाइमिंग का सीधा असर पड़ता है। आपके लक्षित प्राप्तकर्ताओं को उचित समय पर ईमेल भेजने से उपयोक्ताओं द्वारा उस पर कार्यवाही करने की, तथा अधिक महत्त्वपूर्ण रूप में, वार्तालाप शुरू करने की संभावना अधिक रहती है। पुराने अभियानों के आंकड़ों का विश्लेषण करने से आपको वह सही समय ज्ञात करने में मदद मिल सकती है, जब आपके लक्षित प्राप्तकर्ताओं द्वारा अपेक्षित उत्तर तत्काल दिए जाने की संभावना सबसे अधिक हो

 

2. सही आवृत्ति

अत्यधिक संख्या में ईमेल भेजने का दौर अब वास्तव में बीत चुका है। वास्तव में, ऐसा करने वाली कंपनियों को अपने प्राप्तकर्ताओं के गुस्से का अधिक सामना करना पड़ सकता है। ऐसे ईमेल से बोरियत शुरू हो जाने पर ज्यादा संभावना यही रहती है कि आपका संदेश सीधे 'कूड़ेदान' में डाल दिया जाएगा

यह सही है कि ईमेल की शेल्फ लाइफ बहुत छोटी होती है। हालांकि यह भी सत्य है कि अगर आप वही ईमेल, उसी ग्राहक को रोज भेजते हैं, तो अनसबस्क्राइबर लिस्ट बड़ी और तीव्र होती जाएगी। आपके कारोबार के प्रकार के अनुसार, अपने ग्राहकों का ध्यान खींचने के लिए एक महीने में एक या दो ईमेल ही भेजें

 

3. विषय वाली आकर्षक पंक्ति

ईमेल की विषय वाली पंक्ति, आपके ग्राहकों पर आपके ब्रांड का प्रथम प्रभाव डालती है। ईमेल की विषय वाली पंक्ति किसी विज्ञापन प्रति के शीर्षक जैसी होती है। विज्ञापन के जनक माने जाने वाले डेविड ओगिल्वी ने एक बार एक प्रसिद्ध टिप्पणी की थी, 'अपना शीर्षक लिखते समय आप अपने डॉलर के अस्सी सेंट खर्च कर देते हैं।' विषय वाली पंक्ति उपयुक्त होने पर ग्राहक में उस ईमेल को खोलकर देखने के लिए रूचि उत्पन्न होती है

हालांकि विषय वाली पंक्ति की लंबाई को लेकर कोई सर्वमान्य नियम नहीं है, लेकिन इसे 50-60 अक्षरों की सीमा में रखना ही ठीक होता है, जिसमें अपना वांछित बिंदु पर जोर देने के लिए रचनात्मकता का प्रयोग करें। प्रासंगिक संदेश या जानकारी के बिना साधारण सी विषय पंक्ति आपके ग्राहकों को निराश कर सकती है, और इतना अधिक कि वे तुरंत खुद को अनसबस्क्राइब भी कर सकते हैं

 

4. चित्रों और पाठ का उचित तालमेल

चित्रों और पाठ का उचित तालमेल, आपकी ईमेल मार्केटिंग रणनीति में चार चांद लगा सकता है। क्योंकि एक चित्र का प्रभाव, हजारों शब्दों से भी अधिक हो सकता है, इसलिए ईमेल में सही चित्र शामिल करना बहुत आवश्यक है। साथ ही, ग्राहकों को अपेक्षित निर्णय हेतु प्रेरित करने के लिए उपयुक्त पाठ का भी उपयोग करना महत्त्वपूर्ण है

ईमेल के आखिर में, एक प्रासंगिक कार्यवाही आग्रह (कॉल टू एक्शन) या सीटीए (CTA) बटन जोड़ें। यह ईमेल में बाकी संदेश से अलग दिखना चाहिए

सफल ईमेल मार्केटिंग रणनीतियां, अनसबस्क्राइबर्स की संख्या कम करने, क्लिक-थ्रो रेट बढ़ाने, तथा अधिक महत्त्वपूर्ण रूप में, संभावित लीड में बदलने की क्षमता पर केंद्रित होनी चाहिए