ताजा अपडेट के लिए सब्सक्राइब करें

Text to Identify Refresh CAPTCHA कैप्चा रीफ्रेश करें

*साइन-अप करके मैं रिलायंस मनी से ई-मेल प्राप्त करने के लिए सहमत हूं

 

कॉलेज के डॉर्म रूम से शुरूआत करने वाले सफल व्यवसाय

जहां अनेक लोग कॉलेज डॉर्म रूम्स को देर रात धमाचौकड़ी वाला स्थान मानते हैं, वहीं दुनिया भर में यूनिवर्सिटी में ये आवासीय सुविधाएं सबसे महत्त्वाकांक्षी उद्यमियों के लिए केंद्र भी साबित हुई हैं। वास्तव में, कुछ सबसे बड़े और सबसे प्रसिद्ध व्यावसायिक संगठनों की शुरूआत कॉलेजों के डॉर्म रूम से ही हुई, जिनके पास शुरू में एक प्रखर विचार और अटूट प्रेरणा के सिवाय और कुछ भी नहीं था

ये कंपनियां निस्संदेह इस बात का प्रमाण हैं कि कठिन परिश्रम और समर्पण भावना से कुछ भी संभव है। उन्होंने दुनिया को दिखा दिया है कि सही अवधारणा और निरंतर समर्पण भावना के साथ आप एक सफल उद्यमी बन सकते हैं, वास्तविक बिजनेस का अनुभव हो चाहे न हो। यहां हम दुनिया के कुछ ऐसे सबसे सफल व्यवसायों के बारे में जानेंगे, जो कॉलेज के डॉर्म रूम्स से शुरू हुए

 

1. फेसबुक

डॉर्म से शुरू कंपनियों के मामले में, सोशल मीडिया की सबसे बड़ी कंपनी फेसबुक एक सबसे जाना-माना नाम है। मार्क जुकरबर्ग के डॉर्म रूम में उनके निजी कम्प्यूटर से हुई इस शुरूआत ने अब दुनिया में सोशल नेटवर्किंग के सबसे लोकप्रिय प्लेटफार्म के रूप में अपनी पहचान स्थापित की है। इस साइट की शुरूआत हार्वर्ड विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों द्वारा की गई थी और जल्दी ही यह कई बिलियन डॉलर के उद्यम में बदल गई। आज इसका मूल्य 100 बिलियन डॉलर से भी अधिक है और रोजाना 30 मिलियन से अधिक लोग इस पर विजिट करते हैं

 

2. गूगल

दुनिया के इस सबसे बड़े सर्च इंजन की छोटी सी शुरूआत स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय के डॉर्म रूम से हुई थी। लारी पेज और सर्गेई ब्रिन द्वारा 1998 में शुरू गूगल ने 2010 और 2011 में लगभग हर हफ्ते एक कंपनी का अधिग्रहण किया। अब इसका मूल्य 400 बिलियन डॉलर से अधिक है, जिसने इसे दुनिया का एक सबसे मूल्यवान ब्रांड बना दिया है

 

3. माइक्रोसॉफ्ट

1975 में बिल गेट्‌स द्वारा पॉल एलेन के साथ स्थापित माइक्रोसॉफ्ट विकसित होते हुए 500 बिलियन डॉलर से अधिक मूल्य की वैश्विक कंपनी बन गया है। सबसे लंबे समय तक दुनिया के सबसे धनी व्यक्ति का खिताब हासिल करने वाले गेट्‌स ने हार्वर्ड विश्वविद्यालय में अपने कॉलेज के दिनों के दौरान माइक्रोसॉफ्ट को स्थापित किया। माइक्रोसॉफ्ट ने पर्सनल कम्प्यूटिंग का एक नया दौर शुरू किया और आज भी पीसी सॉफ्टवेयर के बाज़ार में अपना प्रभुत्व कायम किए हुए है

 

4. वर्डप्रेस

मैट मुलेनवेग ने इस फ्री ब्लॉगिंग साइट की स्थापना ह्‌यूस्टन विश्वविद्यालय में वर्ष 2002 में की थी और तब से लोगों द्वारा विचारों को ऑनलाइन साझा करने और लिखने का तरीका रूपांतरित हो गया। यह ओपेन सोर्स प्रोजेक्ट, लोगों को उनकी अपनी साइट बनाने के लिए एक प्लेटफार्म उपलब्ध कराते हुए इंटरनेट के लिए सचमुच गेम चेंजर साबित हुआ। एक सरल आइडिये के रूप में शुरू यह उद्यम अब इतना बढ़ गया है कि हर महीने 16 मिलियन से अधिक वर्डप्रेस पेज निर्मित किए जाते हैं

 

5. डेल

टेक्सास विश्वविद्यालय में एक प्री-मेड विद्यार्थी ने अपना निजी कम्प्यूटर बनाने और इसकी सार्वजनिक बिक्री करने का उपाय खोजा। इस तरह से माइकल डेल ने 1984 में कंपनी की स्थापना की, जो बीते वर्षों में तकनीकी नवप्रवर्तन का दूसरा नाम बन गई। जहां कम्प्यूटर की दुनिया में कंपनी ने तेज गति से आगे बढ़ते हुए शीर्ष स्थान हासिल किया, वहीं इस प्रमुख कम्प्यूटर ब्रांड की शुरूआत एकदम मामूली तरीके से हुई थी

यह प्रेरक सूची काफी बड़ी है, जिसमें रेडिट, स्नैपचैट, नैपस्टर और किंको आदि अनेक कंपनियां शामिल हैं। इन सभी कंपनियों की शुरूआत कॉलेज के विद्यार्थियों ने अपने विचार के आधार पर की थी

एक व्यवसायी के रूप में, आप रिलायंस मनी से व्यावसायिक विस्तार ऋण लेकर अपने व्यवसाय को नई ऊंचाईयों पर पहुंचा सकते हैं। इसके लिए बस एक ठोस आइडिया और समर्पण की भावना चाहिए। हम आपकी आर्थिक सहायता के लिए तैयार हैं