ताजा अपडेट के लिए सब्सक्राइब करें

Text to Identify Refresh CAPTCHA कैप्चा रीफ्रेश करें

*साइन-अप करके मैं रिलायंस मनी से ई-मेल प्राप्त करने के लिए सहमत हूं

बॉथरूम फिटिंग मैन्युफैक्चरिंग इकाईयों में संसाधन दक्षता प्रयास और प्राप्त फायदे-स्ट्रेनम एशिया

पृष्ठभूमि

The भारत में अन्य अनेक MSME की तरह बॉथरूम फिटिंग मैन्युफैक्चरिंग MSME प्रायः प्रोडक्शन इनपुट जैसे कि कच्चा माल, पानी, ईंधन या ऊर्जा में कमी लाते हुए समान या उच्च गुणवत्ता के प्रोडक्शन आउटपुट बढ़ाने की विधियों और तकनीकों के बारे में जागरूक नहीं हैं। दूसरे शब्दों में, एक व्यावहारिक तरीके के रूप में संसाधन दक्षता (RE) अमल में नहीं है। इससे इन MSME में लीकेज के कारण ताप और ऊर्जा का, सामग्री और पानी का काफी नुकसान होता है

 

RE विधि के फायदे

RE विधि अपनाने पर विभिन्न प्रकार के संसाधनों जैसे कि पानी, ईंधन, बिजली, केमिकल आदि का अधिक दक्ष उपयोग हो पाता है, और इसलिए इसके दोहरे फायदे (a) पर्यावरण पर सकारात्मक प्रभाव (संसाधनों की कम खपत, और कम अपशिष्ट उत्पादन) और (b) इन MSME में धन की बचत के रूप में मिलते हैं। तकनीक में बड़े बदलाव किए बिना मौजूदा प्रक्रियाओं को आदर्श रूप देने के लिए RE पर फोकस किया जाता है, ताकि कम पूंजी में सुधार किए जा सकें, जो कि पर्यावरणीय प्रभाव घटाने में MSME की मदद करने का एक प्रभावी तरीका है। बॉथरूम फिटिंग MSME में RE को बढ़ावा देने का एक प्रोजेक्ट हाल ही में स्टेनम एशिया (STENUM Asia) द्वारा भारत में अनेक MSME में किया गया। RE प्रभाव दर्शाने वाले कुछ केस अध्ययन यहां दिए गए हैं

 
क्र.सं क्रियान्वयन का क्षेत्र और प्रक्रिया पहले बाद में
1 क्षेत्र: कोर शूटर मशीनों में टाइमर लगाना
प्रक्रिया: ब्रास कॉस्टिंग अैर इलेक्ट्रोप्लेटिंग

कोर मेकिंग के लिए अपेक्षित तापमान हासिल करने के लिए कंपनी, सुबह के समय चार कोर शूटर मशीनें चालू करती थी. मशीनों को प्री-हीट करने की प्रक्रिया मानकीकृत नहीं थी और अपेक्षित तापमान हासिल हो जाने पर भी हीटर चलते रहते थें. इसके परिणामस्वरूप बिजली की अनावश्यक खपत होती थी.

हीटरों को निर्दिष्ट समय पर चालू/बंद करने वाले टाइमर लगाए गए. इसके परिणामस्वरूप रोजाना दो घंटे हीटर चलना कम हो गया.

कार्यक्रम की लागत: रू 18,000 टाइमर लगाने के लिए
वार्षिक बचत: बिजली की बचत होने से रू 1,44,000
पेबैक अवधि: 1.5 महीने
2 क्षेत्र: पॉलिप्रापलीन (PP) बॉल्स का उपयोग करके गर्म टैंकों का इंसुलेशन
प्रक्रिया:इलेक्ट्रोप्लेटिंग

कंपनी की ऑटोमैटिक बैरेल लाइन के डिग्रीजिंग और एनोडिक क्लीनिंग टैंक पर सरफेस कवर नहीं था. इससे कई तरह की समस्याएं होती थीं:
1) टैंकों की सतह से गर्मी और भाप निकलती थी
2) कोल्ड स्टार्टअप के बाद प्रचालन तापमान हासिल करना कठिन होता था.

 

टैंकों की ऊपरी सतह ढंकने के लिए PP बॉल्स का उपयोग किया गया. इस उपाय से संबंधित फायदे निम्न हैं:
1) टैंक की ऊपरी सतह का इंसुलेशन.
2) सतह ढंक दिए जाने के कारण गर्मी और भाप का उड़ना कम हो गया.
3) कोल्ड स्टार्ट अप टाइम दो घंटे कम हो गया.
4) अब प्रचालन तापमान दिन भर आसानी से बनाए रखा जा सकता था.

 

कार्यक्रम की लागत: रु 8,000
वार्षिक बचत: रु 97,200
पेबैक अवधि: 1.2 महीने
3 क्षेत्र: लकड़ी के बेकार बोर्डों से गर्म टैंकों को ढंका जाना
प्रक्रिया:पाउडर कोटिंग

कंपनी के डिग्रीजिंग और फॉस्फेटिंग टैंक ऊपर से ढंके नहीं थे. इससे निम्न समस्याएं होती थी:
1) टैंक ढंके न होने के कारण सतह से गर्मी उड़ जाती थी.
2) रात में टैंकों का तापमान गिर जाता था। रोज काम शुरू होने के समय कोल्ड स्टार्टअप में टैंक काफी समय (लगभग 4 घंटे) लेते थे.
टैंक का लॉन्ग कोल्ड स्टार्ट-अप समय (लगभग. 4 घंटे) हर कार्य-दिवस की शुरुआत में.

 

टैंकों को लकड़ी के बेकार बोर्डों से गैर-कार्यशील घंटों के दौरान तथा रात के समय ढंका गया. इस उपाय से निम्न फायदे मिले:
1) टैंकों की सतह से गर्मी उड़ना कम किया जा सका.
2) रात के समय तापमान गिरावट कम होकर केवल 5°C रह गई.
3) कोल्ड स्टार्ट अप टाइम एक घंटा कम हो गया.
 

कार्यक्रम की लागत:कोई खरीद लागत नहीं (उपलब्ध बेकार लकड़ी का उपयोग किया गया)
वार्षिक बचत: Rs 275,895 from energy cost reduction
पेबैक अवधि: तुरंत
लाभार्थी की प्रतिक्रिया
श्री जसमीत सिंह, केपी इंडस्ट्रीज, मोहाली “RE के इस प्रोजेक्ट ने हमें काफी फायदा पहुंचाया, अब बिजली की खपत लगभग 30% कम होती है. मैं अपनी औद्योगिक प्रक्रिया बढ़ाना चाहता हूं और निश्चित ही टीम से तकनीकी मार्गदर्शन लेना चाहूंगा. इस प्रोजेक्ट के कारण अपशिष्ट खपत, अपशिष्ट पानी, और रिजेक्शनों में कमी आई है और उत्पादन में बढ़ोत्तरी हुई है. मैं भविष्य में भी ऐसी परियोजनाओं में शामिल होना चाहूंगा और नई तकनीकों से फायदा उठाते हुए संसाधनों की बचत करना चाहूंगा”.