ताजा अपडेट के लिए सब्सक्राइब करें

Text to Identify Refresh CAPTCHA कैप्चा रीफ्रेश करें

*साइन-अप करके मैं रिलायंस मनी से ई-मेल प्राप्त करने के लिए सहमत हूं

 

उधारदाताओं द्वारा छोटे व्यापार मालिकों को ऋण न देने के कारण

छोटे व्यापार के मालिकों के लिए, ऋण एक अल्पकालिक जमा धन की कमी, परिसंपत्तियों का अधिग्रहण और नए संचालनों की शुरूआत को पूरा करने का एक तरीका है। छोटे व्यवसाय के लिए कैश फ्लो को निरंतर बनाए रखना एक चुनौती है, यह अक्सर कार्यशील पूंजी ऋणों पर भरोसा करते हैं। हालांकि, कुछ ऐसे मौके भी होते हैं जब ऋणदाता क्रेडिट देने से मना कर देते हैं। यहां कुछ ऐसी चीज़ें हैं जो छोटे व मध्यम वर्ग के उद्योगों (SME) को ऐसी स्थिति में डालती हैं

 

खराब क्रेडिट स्कोर<

क्रेडिट स्कोर किसी उद्योग की ऋण पात्रता को सुनिश्चित करते हैं। खराब क्रेडिट स्कोर होने पर समस्या के समाधान में मदद नहीं मिलती। आज के समय में ऋणदाता क्रेडिट देने का निर्णय और ब्याज की दर निर्धारित करते समय निजी और व्यावसायिक क्रेडिट स्कोर पर नज़र डालते हैं

कई क्रेडिट ब्यूरो को आपके क्रेडिट के संपूर्ण विवरण की बारीकी से जांच करने और क्रेडिट स्कोर तैयार करने का काम सौंपा जाता है। भुगतान में देरी, चूक, विलंबित भुगतान, क्रेडिट लिमिट से अधिक खर्च, और दीवालियापन खराब क्रेडिट स्कोर को दर्शाते हैं

व्यापार मूल्य का अभाव

ऋणदाता उन व्यवसायों को ऋण देने के बारे में आशंकित होते हैं जिनका मूल्य और वृद्धि का वह पूर्वानुमान नहीं लगा पाते। यह निरीक्षण कम्पनी की ऑर्डर बुक, बाज़ार के आकार और वित्तीय प्रदर्शन के आधार पर मूल्यांकित किए जाते हैं। कुछ ऋणदाताओं के पास किसी विशेष क्षेत्र को ऋण देने में विशिष्ट निपुणता और विशेषज्ञता हो सकती है

 

लिमिटेड कैश फ्लो

कम या छिट-पुट कैश फ्लो वित्त प्राप्त करने की संभावनाओं को ठेस पहुंचा सकता है। ऋणदाता इस बात के लिए आश्वासित होना पसंद करते हैं कि व्यापार अपने पुनर्भुगतानों का भुगतान करने के लिए पर्याप्त कैश फ्लो जनरेट करेगा। अगर कम्पनी के पास कोई त्वरित कैश फ्लो नहीं है, तो वह ऋण स्वीकृत हो जाने के बाद भविष्य में विकास के आधार पर एक अनुमानित आय पेश कर सकती है

 

जोखिम भरा उद्यम

वित्तीय संस्थान कई व्यवसायों को उनकी प्रकृति के कारण जोखिम भरे उद्यमों के रूप में देखते हैं। रेस्टोरेंट, अपैरल स्टोर, टूर और ट्रेवल आदि का उद्यम कर रहे लोगों के लिए ऋणदाता को मनाना मुश्किल हो सकता है। 2008 के वित्तीय संकट के बाद, ऋणदाता अधिक जोखिम लेना पसंद नहीं करते और उन उद्यमों से दूर रहते हैं जिनसे उन्हें ऋण चुकाने की उम्मीद नहीं होती

 

कोलैटरल का अभाव

वित्तीय संस्थानों को अक्सर कोलैटरल (कोई परिसंपत्ति) की आवश्यक होती है जिसका उपयोग वह ऋण न चुकाए जाने की स्थिति कर सकते हैं। यह ऋण देने के जोखिम को कम करता है और कम ब्याज दर का रास्ता दिखाता है। कोई कोलैटरल पेश न करने वाले उधारकर्ता शायद किसी भी प्रकार के ऋण का लाभ नहीं उठा सकते। आमतौर पर ऋणदाता के पास कोलैटरल के मूल्य का आकलन करने के लिए अपनी टीम होती है

 

उचित डॉक्यूमेंट न होना

डॉक्यूमेंट विश्वसनीयता स्थापित करते हैं। अधिकतर ऋणदाता के पास डॉक्यूमेंट, प्रमाणपत्र, स्टेटमेंट और रेफरेंस मैटेरियल की एक पूर्वनिर्धारित लिस्ट होती है जिन्हें प्रस्तुत करना आवश्यक होता है। उचित डॉक्यूमेंट न होने पर ऋणदाता ऋण देने से इनकार कर सकता है

नकारात्मक छवि

बाज़ार में नकारात्मक छवि उधारकर्ताओं को नुकसान पहुंचा सकती है। समझदार ऋणदाता ग्राहक की राय मांग रहे हैं, इंटरनेट पर स्कैन कर रहे हैं, सोशल मीडिया में निगरानी रख रहे हैं, और यहां तक कि ऋण की मांग करने वाली कम्पनी की उधारपात्रता स्थापित करने के लिए उसके प्रोत्साहकों की खर्च करने की आदतों पर भी नज़र रख रहे हैं

जब बात MSME लोन, SME लोन और SME फाईनेंस की आती है, तो रिलायंस कमर्शियल फाईनेंस एक विश्वसनीय नाम है। अधिक जानकारी के लिए आज ही हमसे संपर्क करें