ताजा अपडेट के लिए सब्सक्राइब करें

Text to Identify Refresh CAPTCHA कैप्चा रीफ्रेश करें

*साइन-अप करके मैं रिलायंस मनी से ई-मेल प्राप्त करने के लिए सहमत हूं

श्री पिनाकी दास गुप्ता, ओएचएस विशेषज्ञ

Plastics encompass several products which are derived from synthetic polymers, which can be moulded into solid objects. These are utilised in daily lives. Majority of them are of carbon except silicones which contain silicon. Commercially, plastics can be categorized based on their linkages into thermoplastics and thermosetting. Plastic is processed through thermal application of polymers which are the raw materials with the help of processes such as injection moulding, blow moulding, extrusion, calendering, rotational moulding, etc. Handling and management of polymers is mechanical and thermal in nature. The major operations which take places in a typical plastic processing unit are cutting, grinding, mixing, and product development. These steps may involve the risk of injury. Safety is a part of sustainability. Hence, it is important that safety is maintained round the clock. The plastic industry is less hazardous than several other industries due to its inherent nature of operations involved which are as mentioned above primarily mechanical and thermal. However, any negligence on the part of management and workforce can lead to unwanted incident as in other cases. The major safety issues which can be identified for plastic processing units are in batch (pellets) handling, machine operations, mold development, maintenance and housekeeping. The highest risk occurs during plastic machine operations as in the MSMEs, the design and fabrication is often sourced from local vendors, who have limited knowledge of a safe design. This leads to certain unsafe design conditions which when overlooked pose a threat to life. Such unsafe designs include improper insulation on high temperature sections, not providing adequate guarding in raw material melting area, improper hopper design, inadequate control provisions, very less instrumentation, etc. The highest numbers of accidents which occur in small plastic processing units are from improper safeguards. OSHA (1) states that “Plastics processing machines are complex pieces of equipment that require guards to protect employees from nip points, numerous moving parts, and exposure to high voltage and high temperature. Serious injuries including fatalities, amputations, avulsions, burns, cuts, and bruises can occur during operation. Such injuries may result from guards that are missing, improperly installed, removed, or bypassed.”

 

The major concern areas for different types of operations (2) are provided below

  1. इंजेक्शन मोल्डिंग — फीड पेंच और सांचे का छेद — यह उचित रूप से सुरक्षित और आवृत होना चाहिए.
  2. ब्लो मोल्डिंग — गर्म सतह — इन क्षेत्रों की पहचान और सुरक्षा की जानी चाहिए.
  3. थर्मोफोर्मिंग मशीनें — हीटर बैंक और सामग्री भरण — इन्हें उचित रूप से सुरक्षित तरीके से डिज़ाइन किया जाना चाहिए
  4. बाहर निकलने के रास्ते — अधिक मात्रा, छिड़काव, जालियां — स्वच्छ संचालन सुनिश्चित करने के लिए प्रावधान मौजूद होने चाहिए
  5. कम्प्रेशन मोल्डिंग मशीन — खतरनाक चलते हुए पुर्जे, जालियां, छेद — संचालनों के दौरान उचित सुरक्षा मौजूद होनी चाहिए
  6. ग्राइंडर्स — आकार की कटाई — हाथ और कलाई की चोट, आंख की चोट का जोखिम
  7. सांचे का रख-रखाव — मशीन के तेल का प्रयोग, आंख और हाथ के लिए खतरनाक
 

The hazards associated with granulators (3) are Contact with knives, Entanglement, Contact or impact from ejecting plastic, Dust, Fire & explosion, Noise, Slips, trips and falls, Entanglement from unexpected rotor movement (during maintenance, cleaning & repairs) and Collision between moving and fixed knives

उपरोक्त के अलावा, उचित यंत्रीकरण के लिए मशीन फैब्रिकेशन चरण के दौरान मालिकों द्वारा गहन निरीक्षण किया जाना चाहिए। व्यक्ति को गर्म सतहों से स्वयं को सुरक्षित रखना चाहिए विशेषकर आकस्मिक संपर्क से बचने के लिए 80° सेल्सियस से अधिक के गर्म हिस्सों को कवचों या तापावरोधकों के प्रयोग द्वारा सुरक्षित रखना चाहिए। निम्नलिखित कार्यवाहियों की मदद से सुरक्षित संचालन प्राप्त किए जा सकते हैं

  1. सुरक्षित संचालन के लिए कर्मचारियों और प्रबंधन का प्रेरण (इंडक्शन)
  2. ऑपरेटर जांचसूची
  3. मशीन निरीक्षण
  4. मशीन के तापमान के समायोजन के दौरान सुरक्षा
  5. आकृति और आकार में अशुद्धियों के साथ-साथ असमान्यता के लिए सभी कच्ची सामग्रियों का दृश्य निरीक्षण
  6. सही व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण
  7. मशीन के परिचालन में दोषों की पहचान करना