ताजा अपडेट के लिए सब्सक्राइब करें

Text to Identify Refresh CAPTCHA कैप्चा रीफ्रेश करें

*साइन-अप करके मैं रिलायंस मनी से ई-मेल प्राप्त करने के लिए सहमत हूं

 

विस्तार की सोच रहे हैं? ग्रामीण भारत का रुख करने से बड़े लाभ मिल सकते हैं

विस्तार हर कारोबार का एक उद्देश्य होता है; इससे आपको बिक्री और मुनाफा बढ़ाने में, ब्रांड की पहचान बढ़ाने में और अपने ग्राहकों की संख्या बढ़ाने में मदद मिलती है। हालांकि यह सही है कि शहरी बाजार में बढ़त के मौके हैं, पर आप ग्रामीण भारत का रुख करके और अधिक लाभ हासिल कर सकते हैं; क्यों, यह जानने के लिए आगे पढ़ें

 

1. विशाल ग्रामीण जनसंख्या

भारत की कुल जनसंख्या का आधे से अधिक हिस्सा ग्रामीण इलाकों में रहता है। विश्व बैंक के विकास संकेतकों के संकलन के अनुसार, 2017 में भारत की ग्रामीण जनसंख्या 66.46% थी

इतनी विशाल जनसंख्या आपको उम्र, लिंग, शिक्षा आदि विभिन्न आधारों पर अपना लक्ष्य ग्राहक वर्ग चुनने और अलग-अलग करने के काफ़ी मौके देती है। अगर आप इस जनसंख्या के मात्र 2-3% को भी ग्राहक बनाने में कामयाब हो जाएं, तो इससे आपका ग्राहक वर्ग बहुत बढ़ जाएगा और आपके रेवेन्यू में कई गुना की बढ़त हो जाएगी

 

2. शहरी इलाकों की तुलना में खपत में बढ़त की दर अधिक है

सरकार द्वारा बुनियादी ढांचे पर किए जाने वाले खर्च में वृद्धि के कारण, ग्रामीण भारत में खपत में बढ़त की दर शहरी इलाकों से आगे निकल गई है। विव 2018 में, ग्रामीण भारत में खपत में सालाना बढ़त 9.7% थी जबकि शहरी भारत में यह 8.6% थी

देश के ग्रामीण परिवार तमाम चीजों जैसे कंज्यूमर ड्यूरेबल्स, खाद्य और पेय पदार्थ और व्यक्तिगत देखभाल की चीजों पर पहले से कहीं अधिक खर्च कर रहे हैं। ग्रामीण उपभोक्ताओं में साक्षरता और आमदनी बढ़ रही है और साथ ही उनकी जीवनशैली और आदतें भी बदल रही हैं, जिसे देखते हुए यह उम्मीद की जा रही है कि बढ़त की यह दर आने वाले दिनों में टिकी रहेगी। इस बढ़त की लहर पर सवार होकर और ग्रामीण इलाकों में विस्तार करके आप अपने कारोबार के रेवेन्यू में अच्छी-खासी वृद्धि कर सकते हैं

 

3. ग्रामीण बुनियादी ढांचे में बढ़त की गति तेज हुई है

ग्रामीण बुनियादी ढांचे में पिछले कुछ समय से अत्यधिक विकास देखने को मिला है। उदाहरण के लिए, सरकार ने प्रधान मंत्री ग्राम सड़क योजना (PMGSY) के पहले चरण के पूरे होने के लक्ष्य वर्ष को 2022 से घटाकर 2019 कर दिया है

साथ ही, 2017-18 में पीएमजीएसवाई के तहत सड़क निर्माण की गति 134 किमी प्रतिदिन पर पहुंच गई जो पिछले 8 साल में सबसे अधिक है, तुलना के लिए देखें तो 2011-14 में यह 73 किमी प्रतिदिन थी। ग्रामीण बुनियादी ढांचे, खासौतर पर सड़कों, की बढ़त में तेजी आने से कच्चे माल को फैक्टरी में लाना और वहां से तैयार माल ग्राहकों तक पहुंचाना और आसान हो जाएगा

 

विस्तार कैसे करें?

वैसे तो ऊपर बताई गई बातें ग्रामीण इलाकों में विस्तार को काफी आकर्षक विकल्प बना देती हैं, पर साथ ही साथ यह भी जरूरी है कि एक नपा-तुला नजरिया अपनाया जाए और इस सफर पर निकलने से पहले इन चीजों पर काम कर लिया जाए

1. जमीन खरीदने और बुनियादी ढांचा खड़ा करने के नियम जानें

विस्तार से पहले, आपको ग्रामीण इलाकों में जमीन खरीदने और बुनियादी ढांचा खड़ा करने से संबंधित नियम पता होने चाहिए। यह पक्का कर लें कि आपकी प्रक्रिया, भूमि अधिग्रहण, पुनर्वास एवं पुनर्स्थापन में उचित क्षतिपूर्ति एवं पारदर्शिता का अधिकार अधिनियम, 2013 के अनुरूप हो

2. एक मजबूत वितरण नेटवर्क विकसित करें

मजबूत वितरण नेटवर्क विकसित करना एक महत्वपूर्ण कदम है जो ग्रामीण बाजार में विस्तार को कामयाब बनाने में सहायक सिद्ध हो सकता है। इसे विभिन्न विधियों के इस्तेमाल से हासिल किया जा सकता है जैसे

  • पारंपरिक वितरण, जिसमें छोटे-छोटे उप-वितरकों या डिलीवरी वैन के जरिए सामान का वितरण होता है
  • टेक्नोलॉजी, जिसके जरिए ऑनलाइन ऑर्डर लिए जा सकते हैं और डिलीवरी की जा सकती है

विस्तार के लिए किफायती ब्याज दर पर फंड की उपलब्धता एक महत्वपूर्ण बिंदु है। रिलाइंस मनी के बिज़नेस एक्सपांशन लोन विस्तार के दौरान आपको वित्तीय सहायता दे सकते हैं। इस पेशकश के बारे में अधिक जानने के लिए यहां क्लिक करें