कंटेंट पर जाएं

माइक्रोफाइनेंस

भारत में विशेष रूप से कम आय वाला समाज का एक बड़ा तबका, सुव्यवस्थित फाइनेंशियल सेवाओं से वंचित है.

भारत सरकार और रिजर्व बैंक 'फाइनेंशियल समावेशन' और विभिन्न पहल को बढ़ावा देने के लिए सक्रिय हैं, ताकि एमएफआईएस और/या प्राइवेट लिमिटेड कंपनियों की पार्टनरशिप से बैंक से दूर और अंडर बैंकिंग आबादी तक पहुंचा जा सके. इसे एक नवीन व टिकाऊ पद्धति के रूप में देखा गया है. समाज के इस एकांत हिस्से के लोगों में भी आगे बढ़ने की आकांक्षा है और वे अपने सारे सपनों को पूरा करने के लिए जी तोड़ मेहनत कर रहे हैं.

रिलायंस मनी को भी इन सपनों में पूर्ण विश्वास है और माइक्रोफाइनेंस संस्थाओं (एमएफआई) के साथ साझेदारी से इंडिया के दूरस्थ भागों में वित्तीय सेवाएं प्रदान कर रहा है. हम परप्रतिस्पर्धी ब्याज दर और कम से कम दस्तावेज़ों पर आपके लिए घर बैठे नए माइक्रोफाइनेंस का समाधान प्रदान करते हैं. हम उधार देने के लिए एमएफआईएस को होलसेल फंडिंग करते हैं और एमएफआईएस को अन्य स्रोतों से धन प्राप्त करने में मदद करने की गारंटी प्रदान करते हैं.

हमारी ग्राहक-केंद्रित प्रक्रिया यह सुनिश्चित करती है कि हम हर छोटे-उधारकर्ता की अपेक्षा को ध्यान में रखकर उनका सम्मान करते हैं और उनके सपने को पूरा करने हेतु उन्हें सशक्त बनाने के लिए प्रतिबद्ध हैं. आखिरकार, जमीनी स्तर पर आत्मनिर्भरता भारत को आत्मनिर्भर बनाने की ओर पहला कदम है.

अभी आवेदन करें

Text to Identify Refresh CAPTCHA कैप्चा रीफ्रेश करें
(*) चिन्ह वाली फील्ड को भरना अनिवार्य है