ताजा अपडेट के लिए सब्सक्राइब करें

Text to Identify Refresh CAPTCHA कैप्चा रीफ्रेश करें

*साइन-अप करके मैं रिलायंस मनी से ई-मेल प्राप्त करने के लिए सहमत हूं

 

जानें कि दूसरों को काम सौंपना कैसे रोकें और सिखाना शुरू करें

काम सौंपना एक महत्वपूर्ण हुनर है, जिसमें महारत हासिल कर लेने पर आप पहले से कहीं अधिक काम पूरा कर सकते हैं और तंग डेडलाइनों तथा बड़े कार्यभारों के बीच कुशलता से काम कर सकते हैं। पर यह आवश्यक नहीं कि हर लीडर अपनी ज़िम्मेदारियां दूसरों को सौंप सकता हो, और यह बात उन पोल्स से साफ हो जाती है जिसमें हर 10 में से केवल 3 लोग यह मानते हैं कि वे काम सौंपने के मामले में विशेषज्ञ हैं

किसी को काम सौंपने का सबसे कठिन भाग है उस पर यह भरोसा करना कि वह आप जैसी कुशलता और प्रभावशीलता के साथ वह काम कर देगा। इसी भरोसे की कमी के कारण बहुत से लीडर काम सौंपने से बचते हैं। पर हां, इस नज़रिए में एक अंतर्निहित अंतराल भी है

काम सौंपने के बारे में अनिच्छा दिखाकर, लीडर दूसरों को प्रशिक्षित नहीं कर पाता है, और इससे यह लगभग तय हो जाता है कि जब हालात उसे काम सौंपने पर मजबूर करेंगे तो जिन लोगों को उसने काम सौंपे हैं वे नाकामयाब हो जाएंगे। आगे पढ़ें और जानें कि आप इससे कैसे बच सकते हैं और काम सौंपने की कला में कैसे बेहतर बन सकते हैं

 

सोच बदलें

लीडर के लिए यह जरूरी है कि वह एक कार्यकारी की भूमिका से विकसित होकर एक प्रशिक्षक की भूमिका अपनाए। आपका फोकस रोजमर्रा के कामों से उठकर रणनैतिक महत्व के मामलों पर आना चाहिए

काम सौंपने की बात सोचने पर डर और कुछ सवाल पैदा हो सकते हैं जैसे, “क्या काम सौंप देने पर कंपनी की नज़र में मेरा महत्व घट जाएगा?”, “अगर मैं इसे होने दूं तो क्या होगा?”, “कोई भी यह काम मेरी तरह नहीं कर सकता है”, आदि। पर एक लीडर होने के नाते, आपका मुख्य फोकस लोगों की कामयाबी पर होना चाहिए और ऐसा केवल तब हो सकता है जब आप ‘जाने दो’ को व्यवहार में उतारना सीखेंगे

 

छोटी शुरुआत करें

आप चाहे खेल के मैदान में हों या बिज़नेस के अखाड़े में, धीमी शुरुआत करना ही कामयाबी की चाभी होती है। लीडर के रूप में आपका काम है नई प्रतिभाओं में हुनर की कमियां पहचानना और उनसे ऐसे छोटे-छोटे असाइनमेंट करवाना जिनके जरिए आप उन्हें वे हुनर सिखा सकें

कोई भी काम सौंपने से पहले, आप उनसे कह सकते हैं कि जैसे-जैसे आप कर रहे हैं वैसे-वैसे वे करें और काम की बारीकियों को सीख-समझ लें। उदाहरण के लिए, मान लें कि आप किसी को मीटिंग संचालन का तरीका सिखाना चाहते हैं। तो सबसे पहले आप उन्हें देखने दें कि आप एजेंडा तैयार करने से लेकर मीटिंग के मिनट्स नोट करने तक के सारे काम कैसे करते हैं

इसके बाद उन्हें आपके पदचिह्नों पर चलने का मौका दें और आप उन्हें और बेहतर बनाने के लिए उनके समालोचक की भूमिका में आ जाएं। इस तरह आप पक्का करेंगे कि जब आप किसी और काम में व्यस्त हों तो वे आपका काम संभालने के लिए तैयार हों

 

नाकामयाबी से कदमों को धीमा न पड़ने दें

जब आप किसी को काम सौंप चुके हों, तो यह जरूरी हो जाता है कि नियमित अंतराल पर आप उनका काम देखते रहें। आपको उन्हें न केवल यह सिखाना होगा कि काम कैसे करते हैं, बल्कि यह भी कि वह काम वैसे ही क्यों किया जाता है। अगर काम करने में उनसे कोई गलती हो जाए तो उन्हें काम से अलग करने की बजाय आपको उनसे उस गलती को ठीक करने को कहना चाहिए

इस तरह, गलतियां और नाकामयाबियां आप और आपके प्रशिक्षु के लिए सीखने का मौका बन जाएंगी

आगे बढ़ने के साथ-साथ, आप अपना फोकस प्रोजेक्ट्स से हटाकर लोगों पर और प्राथमिकताओं पर लाने में सक्षम हो जाएंगे। काम सौंपने में आपकी कुशलता आपकी कंपनी को बढ़िया से महान तक का सफ़र पूरा करने में मदद करेगी। एक महान लीडर बनने में मदद पाने के लिए आप किसी परामर्शदाता की सेवाएं भी ले सकते हैं