ताजा अपडेट के लिए सब्सक्राइब करें

Text to Identify Refresh CAPTCHA कैप्चा रीफ्रेश करें

*साइन-अप करके मैं रिलायंस मनी से ई-मेल प्राप्त करने के लिए सहमत हूं

 

महत्त्वपूर्ण वित्तीय विवरण, जो प्रत्येक व्यवसाय मालिक को अवश्य जानने चाहिए

किसी व्यवसाय की आर्थिक स्थिति दर्शाने वाले वित्तीय विवरण, ऐसे अनिवार्य दस्तावेज हैं, जिनको बहुत सावधानी से देखने की ज़रूरत होती है। इन दस्तावेजों की गहरी समझ एक व्यावसायिक मालिक के रूप में आपको आपके उपक्रम के महत्त्वपूर्ण आंकड़े समझने में, तथा महत्त्वपूर्ण निर्णय करने में आपकी मदद करेगी

नीचे कुछ ऐसे अनिवार्य वित्तीय विवरणों के बारे में बताया गया है, जो प्रत्येक व्यावसायिक मालिक को अवश्य जानने चाहिए

 

1. आय का विवरण

आय का विवरण, जो 'लाभ और हानि विवरण' भी कहलाता है, यह एक सर्वप्रमुख वित्तीय विवरण है जो आपको हुई आय, उस आय के लिए आवश्यक लागत, तथा व्यवसाय संचालन के लिए वहन किए गए व्ययों की जानकारी प्रदान करता है

प्रायः एक निर्धारित अवधि-तिमाही, वित्तीय वर्ष या कैलेंडर वर्ष-के लिए यह विवरण, लागतों में कमी लाकर, राजस्व बढ़ाकर या दोनों के द्वारा लाभ सृजित करने की आपकी फर्म की क्षमता या अक्षमता के बारे में बताता है। यह विवरण अनिवार्य लाभप्रदता अनुपातों की गणना करने में आपकी सहायता करता है, और इस विवरण से आप यह समझ सकते हैं कि किसी विशेष अवधि में आपकी कंपनी ने लाभ अर्जित किए हैं या नहीं किए हैं

 

2. तुलनपत्र (बैलेंस शीट)

बैलेंस शीट, आपकी कंपनी के निम्न से संबंधित वित्तीय मामले दर्शाती है

  • परिसंपत्तियां: इसमें आपके स्वामित्व वाली चीज़ें जैसे कि उपकरण, मालसूची, और चेकिंग खाता शामिल हैं
  • देयताएं:इसमें आपकी बकाएदारियां जैसे कि ऋण, वेतन बीजक आदि शामिल हैं.
  • मालिक की इक्विटी: आप द्वारा आपके बिजनेस में किए गए पूंजीगत निवेशों में से आहरण/निकासियों को घटाकर, तथा निवल आय जोड़कर इसे ज्ञात किया जाता है

आपको आपकी कंपनी की वित्तीय स्थिति की एक रूपरेखा दिखाने वाली बैलेंस शीट, ऋणदाताओं और क्रेडिटर्स को आपके उपक्रम की आर्थिक सेहत का पता लगाने में मदद करती है। यदि आपको लोन लेना हो, तो आपको ये वित्तीय संस्थान के सामने प्रस्तुत करना होता है। बैलेंस शीट से अप्रत्याशित खर्चे पूरे करने, तथा लिक्विडिटी पोजीशन समझने में भी मदद मिलती है

 

3. नकदी प्रवाह विवरण

नकदी प्रवाह का विवरण एक अन्य महत्त्वपूर्ण वित्तीय रिपोर्ट है जो किसी निर्धारित अवधि में आपकी उत्पन्न नकदी की मात्रा, तथा आपके उपक्रम द्वारा इसके उपयोग का विवरण प्रदान करता है। अल्पकालीन वित्तीय आवश्यकताएं, जैसे कि वेंडरों, उपयोगिता सेवाओं के बिलों, और अन्य खर्चों के भुगतान के आकलन में मदद करने वाला नकदी प्रवाह विवरण आपको तत्काल ज़रूरतों के लिए उपलब्ध नकदी का आइडिया प्रदान करता है

इस विवरण में, आने वाली नकदी को आवक और जाने वाली नकदी को जावक के रूप में रिकार्ड किया जाता है। फिर सभी लेनदेन तीन व्यापक श्रेणियों-प्रचालन, निवेश और वित्तीयन में बांटे जाते हैं। इस विवरण को समझने से आपको आपके उपक्रम से संबंधित मुख्य निर्णय लेने में मदद मिलती है, जैसे कि उपकरणों की खरीदारी, नए उत्पादों का विकास, और विस्तार गतिविधियां किया जाना आदि

 

4. ट्रायल बैलेन्स

ट्रायल बैलेन्स में बहीखाते के सभी बैलेन्स लेकर उनको एक वर्कशीट में प्रस्तुत किया जाता है। यह बैलेन्स वर्कशीट लेखापरीक्षणों के दौरान देखी जाती है, और ऋणदाताओं तथा वित्तीय संस्थानों को आपकी ऋण लेने की क्षमता समझने में भी मदद करती है। यह आपकी कंपनी में होने वाले लेखा लेनदेनों की सटीक जानकारी देते हुए शुद्धता भी सुनिश्चित करती है

अन्य वित्तीय विवरण तैयार करने से पहले ट्रायल बैलेन्स तैयार करना होता है, क्योंकि यह आपकी कंपनी द्वारा अर्जित किए जा रहे वास्तविक लाभ और हानि को समझने में आपकी मदद करता है। इसके अलावा, यह जानकारी सभी हितधारकों हेतु आवश्यक होती है

ऊपर बताए गए वित्तीय विवरणों की जानकारी से आपको न केवल अपनी कंपनी की आर्थिक स्थिति को समझने में मदद मिलती है, बल्कि कारोबारी प्रचालनों में प्रतिस्पर्धी श्रेष्ठता और पारदर्शिता भी सुनिश्चित होती है