ताजा अपडेट के लिए सब्सक्राइब करें

Text to Identify Refresh CAPTCHA कैप्चा रीफ्रेश करें

*साइन-अप करके मैं रिलायंस मनी से ई-मेल प्राप्त करने के लिए सहमत हूं

 

इंजेक्शन मोल्डिंग में समय चक्र का महत्व

श्री सनत शाह, प्लास्टिक्स विशेषज्ञ

सर्वाधिक और सबसे कम कुशल मोल्डरों के बीच का अंतर होता है उत्पादित बेहतर भागों की संख्या और प्रयुक्त प्लास्टिक की मात्रा। जल्दी से उत्पादन शुरू न कर पाना, उत्पादन में रुकावटें और बेकार प्लास्टिक आदि में खर्च होता है। उत्पादकता इस खेल का दूसरा नाम है।इस खेल का दूसरा नाम है

1) इंजेक्शन मोल्डिंग में उत्पादकता को प्रभावित करने वाला सबसे महत्वपूर्ण कारक होता है “समय चक्र”। समय चक्र किसी इंजेक्शन मोल्डिंग प्रणाली द्वारा किसी पुर्जे को आकार देने और अपनी मूल स्थिति/अवस्था में वापिस आने और किसी पुर्जे की इंजेक्शन मोल्डिंग करने के लिए परिचालन के अनुक्रम को दोहराते हुए, चक्र पूरा करने में लगने वाला आवश्यक समय होता है

2) समय चक्र आकार देने के कार्यों की लाभप्रदता को प्रभावित कर सकता है

इंजेक्शन मोल्डिंग समय चक्र तीन तत्वों से बना होता है

  • भरने, पैक करने और होल्ड करने का समय
  • ठंडा होने का समय
  • सांचा खुलने का समय
 

इन तीन कारकों में से, ठंडा होने का समय सबसे महत्वपूर्ण कारक होता है। सांचे में प्लास्टिक को ठंडा करना आमतौर पर कुल समय चक्र का 70% से 80% होता है। सांचा कितनी जल्दी खोला जा सकता है यह सांचे के तापमान, प्लास्टिक पिघलने के तापमान, प्लास्टिक के पुर्जे की दीवार की मोटाई, पुर्जे के आकार और प्रयुक्त हुई प्लास्टिक की सामग्री के प्रकार पर निर्भर करता है। अपना आकार बनाए रखने (अर्थात कोई विकार उत्पन्न न होने) के लिए पुर्जों के पर्याप्त रूप से ठंडे होने पर सांचे को खोला और प्लास्टिक के पुर्जों को बाहर निकाला जा सकता है

  • इंजेक्शन मोल्डिंग चक्र के वे दो अन्य तत्व जो कि समय चक्र को कम कर सकते हैं, वे हैं भरने का समय और सांचा खुलने का समय. अधिकतर इंजेक्शन सांचों को जितना जल्दी हो भर दिया जाना चाहिए. वस्तुओं के विशेष मोटे हिस्से और दीवार की मोटाई में भारी भिन्नता के मामले में कुछ अपवाद हो सकते हैं
  • इंजेक्शन मोल्डर को भरने के समय को कम करने की कोशिश करनी चाहिए ताकि पुर्जे क्वालिटी के अनुसार स्वीकार्य बनाए जा सकें.
 

किसी पुर्जे की दीवार की मोटाई समय चक्र को सीधे रूप से प्रभावित करेगी; मोटी दीवारें लंबे समय चक्र में तैयार होती हैं जबकि पतली दीवारें छोटे चक्र में तैयार होती हैं इसीलिए पतली दीवार की मोल्डिंग का समय चक्र 2 से 5 सेकंड की श्रेणी का होता है। सच यह है कि डिजाइनर को अनुप्रयोग के अनुसार पर्याप्त मजबूती बनाए रखते हुए पुर्जे की दीवार की मोटाई को जितना संभव हो उतना पतला और एकसमान बनाने की आवश्यकता होती है। पुर्जे की ऊंचाई भी समय चक्र को प्रभावित करती है। पुर्जा जितना ऊंचा होगा, मशीन प्लैटन को उतना ही अधिक खुलना होगा और उसे सांचे के बीच से निकालने में और अधिक समय की आवश्यकता होगी। सांचे के खुलने का समय न्यूनतम करना समय चक्र को कम करने का एक और तरीका है। यदि मोल्डिंग मशीन हस्तचालित (मैनुअल) या अर्द्ध-स्वचालित रूप में चल रही है तो, सांचे के खुलने का समय न्यूनतम किया जा सकता है। संबंधित सुझाव निम्नवत हैं

  • प्लैटन के खुलने को न्यूनतम आवश्यक दूरी तक कम करें
  • इजेक्शन स्ट्रोक को आवश्यक दूरी तक कम करें
  • यदि संभव हो, तो स्ट्रोक की संख्या को कम करें — मशीन से वस्तुओं को निकालने/उठाने के लिए रोबोटों का प्रयोग करें
 

लेकिन पुर्जों को हटाने और दरारों (कैविटीज़) व सांचे की सतह का निरीक्षण करने के लिए ऑपरेटर को पर्याप्त समय दिया जाना चाहिए। यदि किसी रोबोट या पुर्जा उठाने वाले का प्रयोग किया जाता है, तो सांचे के खुलने का समय पर्याप्त रूप से लंबा होना चाहिए ताकि उस उपकरण के कार्य पूरे हो सकें।
तो किसी विशेष मोल्डिंग कार्य पर लंबा समय चक्र लाभ को कैसे प्रभावित करता है?
आइए एक बहुत ही व्यावहारिक उदाहरण लेते हैं। सांचे की व्यवस्था करने वाले व्यक्ति को मशीन प्राप्त हुई है और सांचा चल रहा है एवं 32 सेकंड के समय चक्र पर गुणवत्ता वाले पुर्जों का उत्पादन कर रहा है। लेकिन, इसे ऊपर बताए गए एक या अधिक कारणों द्वारा 30 सेकंड पर चलने के लिए अनुकूलित किया जा सकता है। हो सकता है कि यह 29 या 28 सेकंड्स पर भी चल सकता हो।
मोल्डिंग कार्य को न्यूनतम समय चक्र पर निर्धारित करें। 2 अधिक सेकंड पाने के लिए इसे आगे अनुकूलित किया जा सकता है। इन अतिरिक्त 2 सेकंड की कीमत क्या है?
मोल्डिंग कार्य उत्पादन के 15,000 घंटों में पूरा हो जाना चाहिए था, लेकिन एक 30 सेकंड के चक्र पर 2 अतिरिक्त सेकंड के लिए उत्पादन के 1,000 अतिरिक्त घंटों की आवश्यकता होगी। उत्पादन के इस अतिरिक्त 1,000 घंटे से अपेक्षित लाभ से 1,00,000 रुपये बढ़ जाता है (मान लें रुपये 100/घंटा की मशीन की दर)
दूसरे शब्दों में, यदि समय चक्र 28 सेकंड तक कम हो जाता है तो लाभ 1,00,000 रुपये तक बढ़ जाता है।
यदि उत्पादन तल पर मोल्डिंग कर्मी कार्य की लाभप्रदता पर इस लंबे समय चक्र के प्रभावों से अवगत होते हैं, तो वे चक्र को आगे और अनूकूलित करने के लिए संभवत: समय निकाल सकते हैं।
तो, मोल्डिंग कर्मियों को समय चक्र ककैसे कम करना है, इस पर तकनीकी प्रशिक्षण और समय चक्र की अर्थनीति के बारे में जागरूकता — दोनों की आवश्यकता है।