ताजा अपडेट के लिए सब्सक्राइब करें

Text to Identify Refresh CAPTCHA कैप्चा रीफ्रेश करें

*साइन-अप करके मैं रिलायंस मनी से ई-मेल प्राप्त करने के लिए सहमत हूं

 

टू-व्हीलर मार्केट पर जीएसटी का प्रभाव

30 जून 2017 की आधी रात को भारत ने एक झटके में बहु-प्रतीक्षित गुड एंड सर्विसेज टैक्स(GST)को लागू कर इतिहास रचते हुए एक नए युग की शुरुआत की

एक से अधिक कर प्रणाली से जूझता इंडिया INC. ने GST का खुली बाहों से स्वागत किया। दूसरों की तरह, टू-व्हीलर सेगमेंट भी इस पर बारीकी से नजर रख रहा था, क्योंकि तेजी से बढ़ते उद्योग पर GST के क्रांतिकारी प्रभाव पड़ने की उम्मीद थी

सोसाइटी ऑफ इंडियन ऑटोमोबाइल मैन्युफैक्चर्स (SIAM) के मुताबिक, भारत पिछले साल 17.7 मिलियन यूनिट बेचकर चीन को पीछे छोड़ते हुए दुनिया के सबसे बड़े टू-व्हीलर मार्केट के रूप में उभरा। बाजार में वाहनों की आसानी से उपलब्धता, बढ़ती आय, ग्रामीण बुनियादी ढांचे का विकास, और महिला यात्रियों की बढ़ती संख्या ने उद्योग की वृद्धि को गति प्रदान की है

 

GST प्रभाव - मार्केट सेगमेंट के लिए कीमतों में बड़े पैमाने पर कटौती

क्रांतिकारी कराधान प्रणाली का परिणाम पूरे देश में टू-व्हीलर वाहनों की कीमतों पर पड़ेगा। फ्लैट 28% GST संरचना को दो समूहों में वर्गीकृत किया गया है

 
  • Two-wheelers with engine < 350 CC
  • Two-wheelers with engines > 350 CC
इंजन क्षमता GST से पहले GST के बाद अंतर
350 CC से कम 30% 28% -2%
350 CC से अधिक 30% 31% 1%
 

इसलिए, यह तस्वीर साफ है। 350 CC से कम इंजन क्षमता वाले टू-व्हीलर वाहनों की कीमत भी कम होगी। हालांकि प्रीमियम बाइक की कीमतों में मामूली वृद्धि होगी, जिन राज्यों में हाई Octroi और VAT स्लैब लागू थे वहां ऑन रोड कीमतें कम हो सकती हैं। इसमें कोई आश्चर्य नहीं कि उपभोक्ताओं के साथ-साथ निर्माता भी उत्साहित हैं

यामाहा मोटर इंडिया सेल्स के सेल्स एंड मार्केटिंग के वरिष्ठ उपाध्यक्ष रॉय कुरियन ने टिप्पणी की, "इस बात की संभावना है कि GST बाजार की मांग में तेजी लाएगा क्योंकि इसके लागू होने केबाद विकास दर के 10% होने की उम्मीद है।" उन्होंने इसमें आगे जोड़ते हुए कहा कि, "टू-व्हीलर उद्योग इस वर्ष कई मैक्रो-इकॉनोमिक सुधारों के दौर से गुजर रहा है, जैसे कि विकास को प्रभावित करने वाले इंजन-मानक अपग्रेड और विमुद्रीकरण के क्षणिक प्रभाव। अभी देखा जाना बाकी है कि GST के कार्यान्वयन से परिवर्तन कैसे होगा।"

एक बयान में, हीरो मोटोकॉर्प ने कहा कि, "प्री-और-पोस्ट GST दरों के आधार पर वास्तविक लाभ राज्य दर राज्य अलग-अलग है। कुछ विशेष प्रीमियम-सेगमेंट मॉडल्स के बाजारों में 4,000 रुपये तक का कटौती देखी जा सकेगी।"

पोलैरिस इंडिया प्राइवेट लिमिटेड के कंट्री हेड और प्रबंध निदेशक पंकज दूबे ने कहा, "इसका सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा, व्यापार का संचालन आसान बनेगा और टैक्स प्रणाली को ट्रांसपेरेंसी में लाया जाएगा। यह कदम भारत में और अधिक निवेश करने के लिए राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय दोनों बिजनेस को आकर्षित करेगा।"

GST करेगा टू-व्हीलर वाहनों के पुर्जों का निर्माण करने वाले SMEs की परेशानियों का हल

पिछली अप्रत्यक्ष कर व्यवस्था के चलते दुपहिया वाहन के पुर्जों के निर्माता परंपरागत रूप से कई मुसीबतों को झेल रहे। परिणामस्वरूप बढ़ी हुई कीमतों का बोझ उपभोक्ताओं पर पड़ता था। अब राज्यों के बीच माल की अबाध आपूर्ति से, ये निर्माता अपनी आपूर्ति श्रृंखला और लॉजिस्टिक लागत को अनुकूलित करने की सुविधा का आनंद ले सकते हैं

दोनों के लिए फायदेमंद

GST सबके लिए फायदेमंद है। आगामी त्योहारों के महीनों के दौरान टू-व्हीलर वाहनों की मांग बढ़ने के साथ ही उधारदाताओं ने पहले ही टू-व्हीलर लोन के लिए अपना होमवर्क करना शुरू कर दिया है। अगर आप लोन से टू-व्हीलर वाहन लेना चाहते हैं, तो इससे बेहतर समय कोई और नहीं है। यदि आप एक विश्वसनीय टू-व्हीलर व लोन चाहते हैं, तो रिलायंस कमर्शियल फाइनेंस से बात करें