ताजा अपडेट के लिए सब्सक्राइब करें

Text to Identify Refresh CAPTCHA कैप्चा रीफ्रेश करें

*साइन-अप करके मैं रिलायंस मनी से ई-मेल प्राप्त करने के लिए सहमत हूं

 

छोटे कारोबारों में बढ़ती लागतों का रणनीतिक प्रबंधन कैसे करें और लाभ कैसे बढ़ाएं

बढ़ती लागतें, ऐसी लागतें कही जा सकती हैं जो तेजी से वृद्धि करती या विकसित होती हैं। यह कंपनी द्वारा लिए गए बीमे, या उपकरणों के रखरखाव पर खर्च किए गए धन के कारण हो सकती हैं। कभी-कभी, संकुचन (श्रिंकेज) भी खर्चे बढ़ा देता है। लंबे समय में, ये खर्चे कंपनी की वृद्धि में बाधा डाल सकते हैं। प्रश्न यह उत्पन्न होता है कि हम बिजनेस चलाने की कोशिशों के दौरान इन लागतों को किस तरह प्रबंधित कर सकते हैं? बिजनेस का सफल विस्तार, किसी भी कंपनी का प्राथमिक लक्ष्य होता है और इसलिए सभी बाधाओं को हटाना बहुत आवश्यक है। आइए इस पर बात करें

   

व्यावसायिक वृद्धि की रणनीति बनाएं:-

व्यावसायिक वृद्धि की सुनियोजित रणनीति, एक ऊंची इमारत की ढांचागत रूपरेखा जैसी होती है। नींव जितनी ही मजबूत होगी, इमारत उतनी ही मजबूत बनेगी। योजना बनाने से आपको सुचारू रूप से आगे बढ़ने तथा लक्ष्य हासिल करने में सैद्धांतिक रूप से मदद मिलती है। व्यवस्थित तरीका, आपको सदैव परस्पर लाभकारी स्थितियां हासिल करने में सहायता देता है। इसके अलावा, लागत ढांचे की रूपरेखा पहले ही बना लेने से आपको निरंतर मार्गदर्शन मिलता है और अनावश्यक खर्चे प्रबंधित करने में मदद मिलती है

 

बैक-एंड सपोर्ट सिस्टमों, डिलीवरी, और आर्डर पूरा करने वाली यूनिटों पर फोकस

बैक-एंड सपोर्ट सिस्टम कंपनी के बैक-ऑफिस को प्रबंधित करने वाले सॉफ्टवेयर होते हैं, जो तकनीक के उपयोग द्वारा स्वचालित किए जा सकने वाले क्षेत्रों की पहचान में मदद करते हैं ताकि लागतों की बचत हो सके। स्वचालन (ऑटोमेशन) का लाभ उठाने से डिलीवरी सिस्टमों में लागतें घटाने में भी मदद मिलती है। आर्डर पूरा करने का अर्थ बिक्री पूछताछ बिंदु (प्वाइंट ऑफ सेल्स इन्क्वॉयरी) से लेकर ग्राहक को उत्पाद/सेवा की डिलीवरी तक पूरे सिस्टम से है। आर्डर पूरा करने वाला सिस्टम अगर दोषपूर्ण है, तो इससे राजस्व की हानि, प्रचालन जोखिम, तथा ग्राहकों की असंतुष्टि आदि दुष्परिणाम हो सकते हैं। इन क्षेत्रों में समुचित निगरानी से लागतें प्रबंधित करने में मदद मिलेगी

 

वित्तीय प्रभावों के लिए योजना:-

आपके बिजनेस पर प्रभाव या परिणाम, 'वित्तीय प्रभाव' कहलाते हैं। और यह लाभकारी या परेशानीपूर्ण हो सकता है। तो, इसके लिए पहले से तैयारी क्यों न की जाए? अपने कारोबार का विस्तार करने का ध्येय बनाने पर यह अपेक्षित होता है कि आप एक निश्चित मात्रा में जोखिम उठाएंगे। लेकिन सोचने वाली बात ये है कि उसके लिए आप अपने बिजनेस को किस तरह तैयार करेंगे। वित्तीय प्रभावों का पूर्वानुमान करना अनिवार्य है। और पूर्वानुमान के लिए पर्याप्त शोध करना, परिदृश्य को समझना, तथा सभी संभावित परिणामों का विश्लेषण करना आवश्यक होता है

 

लीडरशिप और टीम:-

टीम का प्रबंधन, किसी कारोबार को सफलतापूर्वक चलाने के पीछे का एक प्रमुख तत्व होता है। टीम के प्रयास, परिणामों को कई गुना बनाते हैं। सरल शब्दों में, किसी ग्रुप में कोई नेता या कोई अनुयायी नहीं होता, और कारोबार पूरी टीम के प्रयासों से चलता है। लीडरशिप का अर्थ नियमों का सेट लागू करना नहीं है। इसके बजाय यह सभी योगदान करने वालों के मिश्रित प्रयासों से संबंधित है और उनका सम्मिलित उत्साह, सभी बाधाओं को पार करते हुए सफलताएं प्राप्त करता है। इसे समझना, किसी बिजनेस के लिए बहुत आवश्यक है

 

बजट निर्धारण और लेखाकरण (एकाउंटिंग), व्यवस्थित लागत नियंत्रण और लागत नियंत्रण प्रक्रियाओं में कर्मचारियों को शामिल करने पर भी विचार किया जा सकता है, जब बिजनेस में बढ़ती लागतों को कम करने का प्रयास किया जा रहा हो