ताजा अपडेट के लिए सब्सक्राइब करें

Text to Identify Refresh CAPTCHA कैप्चा रीफ्रेश करें

*साइन-अप करके मैं रिलायंस मनी से ई-मेल प्राप्त करने के लिए सहमत हूं

टेक्सटाइल डाईंग के एमएसएमई कंपनियों में ऊर्जा की बचत के क्षमताएं - स्टेनम एशिया

डाइंग के काम में रंगों को पानी में घोलकर कपड़ों पर प्रयोग किया जाता है, जिसके लिए प्रायः सिंथेटिक आर्गनिक रंगों का, और प्रायः उच्च तापमान तथा दाब पर उपयोग किया जाता है। इस प्रक्रिया में बड़ी मात्रा में ऊर्जा की आवश्यकता होती है। मौजूदा प्रक्रियाओं के साथ उचित प्रचालन विधियों का उपयोग खास तौर पर एमएसएमई के लिए ऊर्जा की बचत में मदद कर सकता है। प्रायः एमएसएमई क्षेत्र में उद्यमी निवेश के जोखिम नहीं लेना चाहते और केवल प्रमाणित तकनीक में ही निवेश करते हैं

 

स्टेनम एशिया की टीम ने दो कपड़ा रंगने वाले एमएसएमई पर काम किया, जिनमें से एक जयपुर, राजस्थान और दूसरी लुधियाना, पंजाब में स्थित है। टीम ने पाया कि ब्वॉयलर्स का कुशलता से इस्तेमाल नहीं किया जाता है और बाहर निकलने वाली भाप से हीट रिकवरी की कोई व्यवस्था नहीं थी। पंजाब में यूनिट, कंपनी क्षेत्र में ज्यादा बिजली खपाने वाली लाइटें इस्तेमाल करती थी। इसके अलावा, फ्लू गैस विश्लेषण करके ब्वॉयलर में दहन का स्तर जांचा गया। इसके बाद एमएसएमई के लिए ऊर्जा दक्षता व्यावहारिकता रिपोर्ट तैयार की गई, और एमएसएमई को बिजली बचाने के लिए कम लागत वाले तथा बिना लागत वाले समाधान उपलब्ध कराए गए। आगामी अवधियों के लिए संसाधन उपयोग सूचक निर्धारित सुधार लक्ष्य भी विकसित किए गए

 

केस अध्ययन 1: कंपनी ए, जयपुर

 
क्र.सं प्रचलित स्थिति अनुशंसित परिवर्तन
1 कन्डेन्सेट रिकवरी नहीं पाई गई 96C गर्म पानी बह रहा था और बॉयलर का फीड वॉटर टैंक इंसुलेटेड नहीं किया गया था. 1) बॉयलर फीड वॉटर टैंक से जुड़े मौजूदा कन्डेन्सेट रिकवरी टैंक में पाइप लगाकर हॉट वॉटर को कन्डेन्सेट किया जाना चाहिए.
2) हीट के नुकसान से बचने के लिए बॉयलर फ़ीड वॉटर टैंक को इंसुलेटेड किया जाना चाहिए.

 

कार्यक्रम की लागत: रु. 2000
संभावित वार्षिक बचत: रु.16,000 (2 टन कोयला)
पेबैक अवधि:तुरंत
2

अनुचित आकार का कोयला और कोयले के बड़े टुकड़े बॉयलर में फीड किये जा रहे थे. बिना जले कोयले का काफी नुकसान देखा गया.

तीन संभावनाएं प्रस्तावित हैं:
1) कोयला सप्लायर से पहले से तुड़ा हुआ कोयला खरीदें.
2) ऑपरेटर को कोयले को उचित आकार में तोड़ने के लिए प्रशिक्षित करें और उसे निर्देश दें कि वह बॉयलर में कोयले के बड़े टुकड़े न फीड करे.
3)बॉयलर में कोयले के बड़े टुकड़े फीड करने से बचाव के लिए एक कोल क्रशर मशीन स्थापित की जाए.
कार्यक्रम की लागत: शून्य (पहले 2 विकल्पों के लिए) या रू. 1,25,0000 (तीसरे विकल्प के लिए)
संभावित वार्षिक बचत: रु. 2,80,000 (35 टन कोयला )
पेबैक अवधि:तत्काल (पहले 2 विकल्पों के लिए) या 6 महीने (तीसरे विकल्प के लिए)
 

केस अध्ययन 2: कंपनी बी, जयपुर

 
क्र.सं प्रचलित स्थिति अनुशंसित परिवर्तन
1

कोई कंडेनसेट नहीं पाया गया. 96C हॉट वॉटर नाली में बहता था, हालांकि इसे स्टोर करने के लिए एक ड्रम रखा गया था लेकिन यह बह रहा था और बॉयलर में फीड करने के लिए पुनः उपयोग नहीं किया जा रहा था.

इंसुलेटेड ड्रम स्थापित करें और कंडेनसेट हॉट वॉटर को अच्छी तरह से स्टोर करें, बॉयलर फीड वॉटर टैंक को फीड करने के लिए इसका इस्तेमाल करें. इससे फीड वॉटर टैंक का तापमान बढ़ेगा और कोयले इंसुलेटेड ड्रम स्थापित करें और कंडेनसेट हॉट वॉटर को अच्छी तरह से स्टोर करें, बॉयलर फीड वॉटर टैंक को फीड करने के लिए इसका इस्तेमाल करें की खपत कम करने में मदद करेगा, और पानी की भी खपत कम होगी.

 

कार्यक्रम की लागत:रु. 15,000
संभावित वार्षिक बचत:रु. 21,500 (2.5 टन कोयला)
पेबैक अवधि:2 महीने
2

एग्जॉस्ट के जरिए हीट फ्लो वाली बेकार भाप बड़ी मात्रा में हवा में जा रही थी.

लूप होजर मशीन के वाष्प प्रवाह को नियंत्रित करें. प्रेशर गेज के आधार पर तथा सबसे कम प्रेशर डिमांड के अनुसार (मशीन के मैनुअल में उल्लिखित) वाष्प देने का सुझाव दिया गया.
कार्यक्रम की लागत: बहुत कम
संभावित वार्षिक बचत: रु. 25,800 (3 टन कोयला)
पेबैक अवधि:तुरंत
 

केस अध्ययन 3: कंपनी सी, लुधियाना

 
क्र.सं प्रचलित स्थिति अनुशंसित परिवर्तन
1 फ्लू गैस में ऑक्सीजन का प्रतिशत बहुत अधिक पाया गया जिससे शुष्क फ्लू गैस में ऊर्जा का काफी नुकसान होता था. दहन के लिए दी जाने वाली हवा को ऑक्सीजन सेंसर से, और फोर्सड ड्राफ्ट फैन में परिवर्तनशील फ्रीक्वेंसी ड्राइव द्वारा नियंत्रित किया जाना चाहिए

 

कार्यक्रम की लागत:रु. 2 लाख
संभावित वार्षिक बचत:रु. 6.1 लाख (68 टन कोक)
पेबैक अवधि:4 महीने
2 सोडियम वेपर लैम्प, एफएलटी और सीएफएल का यूनिट पर उपयोग पाया गया. सभी को हटाकर ऊर्जा कुशल एलईडी लगाए जाएं.
कार्यक्रम की लागत: मध्य श्रेणी का
 

निष्कर्ष:



छोटे-मोटे बदलाव जैसे कि स्टेनम एशिया द्वारा सुझाए गए बदलाव शामिल करके, तथा कार्य के लिए धारणीय परिवेश तैयार करते हुए एमएसएमई द्वारा ऊर्जा की बचत की जा सकती है.