ताजा अपडेट के लिए सब्सक्राइब करें

Text to Identify Refresh CAPTCHA कैप्चा रीफ्रेश करें

*साइन-अप करके मैं रिलायंस मनी से ई-मेल प्राप्त करने के लिए सहमत हूं

 

डिजिटल पब्लिक क्रेडिट रजिस्ट्रीः व्यावसायिकों और ऋणदाताओं के लिए इसका क्या महत्त्व है?

ऋणकर्ताओं के बारे में अनिवार्य जानकारी जुटाना, ऋण प्रदान करने की प्रक्रिया काएक मुख्य पहलू है। हालांकि पूरी तत्परता के बावजूद विगत में भुगतानचूक के अनेक मामले देखे गए हैं। जानबूझकर भुगतानचूक करने वाले व्यक्तियों और संस्थाओं का होना और बुरी बात है, जो ऋणदाताओं से बड़ी राशियां उधार लेकर कभी वापस नहीं करते

इसमें कोई आश्चर्य की बात नहीं है, कि बीते वर्षों में गैर-निष्पादन परिसंपत्तियों (NPAs) में काफी बढ़ोत्तरी हुई है। NPA से न केवल आर्थिक वृद्धि दर मंद होती है, बल्कि वास्तविक ऋणकर्ताओं के लिए निधियां प्राप्त करना भी कठिन बन जाता है

 

डिजिटल पब्लिक क्रेडिट रजिस्ट्रीः सूचनाओं की एक रिपॉजिटरी

इन परिस्थितियों को देखते हुए, भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने जानबूझकर ऋण चुकता न करने वालों, और वित्तीय अनियमितताओं की रोक हेतु लंबित कानूनी मुकदमों सहित महत्त्वपूर्ण ऋणकर्ताओं की सूचनाएं एकत्रित करने के लिए एक डिजिटल पब्लिक क्रेडिट रजिस्ट्री स्थापित करने की प्रक्रिया शुरू की

रजिस्ट्री में SEBI, GST नेटवर्क, इन्सॉल्वेन्सी एंड बैंकरप्सी बोर्ड ऑफ इंडिया, तथा कार्पोरेट मामलों का मंत्रालय आदि संस्थाओं से प्राप्त डाटा होगा जो ऋणकर्ताओं के बारे में रीयल टाइम आधार पर पूरी जानकारी प्रदान करेगा

 

व्यावसायिकों के लिए इसका क्या मतलब है?

अब एक व्यावसायिक संस्था के रूप में ऋणदाता, डिजिटल पब्लिक क्रेडिट रजिस्ट्री से आपकी वित्तीय आदतों के बारे में सम्पूर्ण जानकारी प्राप्त करेंगे। नियामकों से एकीकृत जानकारी प्राप्त होने से ऋणदाताओं के लिए जोखिम मूल्यांकन करना आसान हो जाएगा

यदि आपने पिछले कर्जों को भलीभांति चुकता किया है और आपका वित्तीय ट्रैक रिकार्ड बेहतरीन रहा है, तो इसे रजिस्ट्री में लिखा जाएगा और इससे आपके लिए ऋणदाताओं से ऋण लेना आसान बन जाएगा। साथ ही एक ऋणकर्ता के रूप में आप भी क्रेडिट रजिस्ट्री से सूचना प्राप्त कर सकते हैं और यदि कोई विसंगति हो तो उसे ठीक करा सकते हैं

 

ऋणदाताओं के लिए इसका क्या मतलब है?

ऋणदाताओं द्वारा ऋण प्रवृत्तियों का आकलन करने के लिए डिजिटल पब्लिक क्रेडिट रजिस्ट्री सम्पूर्ण समाधान के रूप में कार्य करेगी। अभी ऐसी अनेक एजेंसियां हैं जो ऋणकर्ताओं के क्रेडिट व्यवहार को नोट करती हैं। हालांकि ऐसी कोई केंद्रीय रिपॉजिटरी नहीं थी जहां प्रत्येक एजेंसी से डाटा एकत्रित किया और रखा जा सकता हो

इसलिए, ऋणदाताओं को ऋणकर्ताओं के बारे में सम्पूर्ण जानकारी प्राप्त नहीं हो पाती और इससे संदिग्ध ट्रैक रिकार्ड वाले ऋणकर्ताओं को भी ऋण मिल जाते हैं

अनेक एजेंसियों से सहायक सूचनाओं का सरल एकीकरण ऋणकर्ताओं के लिए एक ही स्थान पर सभी ज़रूरी सटीक सूचनाएं पाना आसान बना देगा

 

डूबत कर्जों का सामना करने की दिशा में एक महत्त्वपूर्ण कदम

रजिस्ट्री की स्थापना ऐसे समय में की जा रही है जबकि वित्तीय संस्थान डूबत कर्जों की समस्या से जूझ रहे हैं। ये ऋण, ऋणदाताओं की वित्तीय शक्ति को क्षीण करते हैं, उनके लिए लाभ अर्जित करना कठिन हो जाता है, उनको अपना काम-काज चलाए रखने में मुश्किल होती है। इससे अंडरराइटिंग की प्रक्रिया आसान बनेगी और ऋणकर्ता को ऋण मंजूर करने से पहले वे उसके बारे में सम्पूर्ण जानकारी प्राप्त कर सकेंगे

इस रजिस्ट्री को विकसित करने के लिए शीर्ष बैंक ने विगत तीन वर्षों में 100 करोड़ रूपए के टर्नओवर वाली फर्मों से रूचि की अभिव्यक्ति (EOI) आमंत्रित किए हैं। क्रेडिट के संबंध में मौजूदा सूचनाओं की समीक्षा करने के लिए तथा प्रणाली में ऐसी मौजूदा खामियां पहचानने के लिए बैंक ने पहले एक उच्चस्तरीय कार्यदल का गठन किया था, जो डिजिटल पब्लिक क्रेडिट रजिस्ट्री द्वारा दूर की जा सकती हों

न केवल इससे सूचनाओं की वर्तमान विसंगतियां दूर होंगी, बल्कि आने वाले समय में क्रेडिट की संस्कृति भी मजबूत बनेगी। रिलायंस मनी से आसान ऋण प्राप्त करके अपने व्यवसाय को सुदृढ़ता प्रदान करें और अपना नकदी प्रवाह बेहतर बनाएं