ताजा अपडेट के लिए सब्सक्राइब करें

Text to Identify Refresh CAPTCHA कैप्चा रीफ्रेश करें

*साइन-अप करके मैं रिलायंस मनी से ई-मेल प्राप्त करने के लिए सहमत हूं

 

नवप्रवर्तक बनना, उद्यमी के लिए सफलता की कुंजी है

उद्यमी जोखिम उठाते और धन कमाते हैं। वे कोई कदम उठाने से पहले हर चीज को देखते और विश्लेषण करते हैं। वे शून्य से शुरूआत करते हैं, लेकिन कुछ बड़ा हासिल करना उनका लक्ष्य होता है। नवप्रवर्तक होना, किसी उद्यमी की कठिन परिश्रम से अर्जित सफलता का मूलमंत्र होता है, और यह उनके जीवन के लिए ऑक्सीजन का काम करता है। खासकर आज के तेजी से बदलते बाज़ार परिदृश्य में नवप्रवर्तन, किसी पनपते बिजनेस के लिए एक अनिवार्य अंग है। अद्वितीय होना, असाधारण खुशबू के स्कूप के जैसा होता है, जो किसी डिश को कई गुने बेहतर बना देता है। वैश्विक पेशेवरों द्वारा किए गए एक विशेष सर्वेक्षण में कहा गया है कि नवप्रवर्तन, किसी कंपनी की दीर्घकालीन सफलता के लिए बहुत महत्त्वपूर्ण है। वर्तमान बाज़ार मांग का पूरा ज्ञान महत्त्वपूर्ण है, लेकिन इसका अनुमान करना कि कुछ समय बाद उनको किस चीज़ की ज़रूरत होगी, उससे भी ज्यादा महत्त्वपूर्ण है। और इसके लिए नवप्रवर्तन और रचनात्मकता चाहिए जो आज के समय में सबसे ज्यादा अनिवार्य हो गई है

 

नवप्रवर्तन, एक निरंतर चलने वाली प्रक्रिया है:-

नवप्रवर्तक होने की कला, सदैव प्रशंसनीय होती है। और ईमानदार बने रहना, समस्याएं सुलझाने के लिए नए विचार/आइडिए सोचना, प्रतिक्रिया करने के नए तरीके खोजना और महत्त्वपूर्ण घटनाओं से तालमेल बिठाना सदैव लाभकारी रहता है। यह न केवल आपका बिजनेस बढ़ाता है बल्कि एक व्यक्ति के रूप में आपकी पोजीशन भी मजबूत बनाता है

 

प्रतिस्पर्धा का दायरा:-

नवप्रवर्तक विचारों का प्रवाह, उद्यमी का आत्मविश्वास बढ़ाता है और हर गुजरते दिन के साथ प्रगति के लिए उसके जोश को शक्ति प्रदान करता है। एसएमई से लेकर अपना विशेष स्थान बनाने तक, कोर टीम के लिए अद्वितीय व्यावसायिक तरीके खोजना अत्यन्त महत्त्वपूर्ण है क्योंकि बड़े पैमाने के उद्योग पहले से ही बाज़ार में अपनी मजबूत स्थिति बनाए हुए होते हैं और छोटे पैमाने के उद्योगों को अपना स्थान बनाने के लिए एक आइडिया चाहिए होता है। उदाहरण के लिए-ऐसे व्यावसायिक हैं जिन्होंने अपने समाज या समुदाय की उन्नति में योगदान किया है

 

नवप्रवर्तक तरीका, मानक ऊंचे उठाता है:-

प्रायः यह देखा जाता है कि एसएमई, एकदम तार्किक और व्यावहारिक तरीके के बजाय रचनात्मक और नवप्रवर्तक कार्यशैली वाले आवेदकों को भर्ती करते हैं। एसएमई को अकादमिक उपलब्धियों से कहीं बढ़कर गुणों की तलाश करनी चाहिए और ऐसी गैर-पारंपरिक भर्ती तकनीकें अपनानी चाहिए जो बेहतर उत्पादकता, तथा कंपनी की वृद्धि के लिए पहले से तैयार कर्मचारी-शक्ति निर्मित करने पर केंद्रित हो

 

नवप्रवर्तन शुरू करने का यही सही समय है:-

कुछ बेहतर की शुरूआत करने के लिए कभी देर नहीं हुई होती। कभी-कभी महान चीज़ों में समय, और काफी प्रयास लगता है, लेकिन अंतिम परिणाम निश्चित ही जबरदस्त होता है। इसलिए, अपनी कुशलताएं निखारें और अलग तरह से सोचने का साहस करें। क्योंकि आखिरकार उसी से सारा बदलाव आएगा। नवप्रवर्तन एक छोटे कदम से शुरू हो सकता है जो आगे चलकर किसी बड़े आइडिए में बदल सकता है

 

छोटे और मध्यम व्यवसायों में नवप्रवर्तन प्रेरित करने वाले कारक, या तो आंतरिक या बाहरी होते हैं। जागरूकता, प्रबंधन सक्षमता, बिजनेस परामर्श और सरकार द्वारा सपोर्ट, उनमें से कुछ हैं

जहां अर्थव्यवस्था, नए आइडियों और तरीकों का सदैव स्वागत करती है, वहीं दिनोंदिन प्रतिस्पर्धा कड़ी होती जा रही है। ऐसी स्थिति में, आपकी अपनी खासियत बनाना, एक विशेष स्थान निर्मित करना और आपके लक्ष्य की दिशा में आदर्श तरीका अपनाना अनिवार्य हो जाता है। अंत में, हमें समझना होगा कि नवप्रवर्तन, बाज़ार अवसरों का दायरा दोगुना कर देता है