रिलायंस मनी के बारे में

तेजी से बढ़ रही भारतीय अर्थव्यवस्था में, प्रत्येक व्यक्ति ने त्वरित विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है. लेकिन राष्ट्र की अर्थव्यवस्था में अपने प्रशंसनीय योगदान के बावजूद, उनमें से अधिकतर धन के औपचारिक स्रोतों तक नहीं पहुंच पाए हैं. हम यहां हर उस व्यक्ति की वृद्धि को सक्षम बनाते हैं जो देश के विकास में योगदान देता है.

हमने हर छोटे व मध्यम उद्यम (SME) और रिटेल उपभोक्ता को उनकी वास्तविक क्षमता का एहसास कराकर उन्हें आत्मनिर्भर संस्था बनने में सहयोग प्रदान करते हुए भारत को आत्मनिर्भर बनाने का संकल्प लिया है. पिछले 9 वर्षों से, हमारे कस्टमाइज्ड और सुविधाजनक वित्तीय समाधानों के माध्यम से, हमने देश भर के 4,00,000 से अधिक MSME को रु. 88,000 करोड़ का लोन देकर उन्हें उनकी सफलता की कहानी लिखने में मदद की है.

अपने ग्राहकों को सशक्त बनाकर और उनके व्यावसायिक सपनों को पूरा करके हम भारत को आत्मनिर्भरता की दिशा में आगे बढ़ाना चाहते हैं.

रिलायंस कमर्शियल फाइनेंस लिमिटेड के मूल सिद्धांतों को बरकरार रखते हुए, हम ब्रांड को एक नया नाम दे रहें हैं जिससे हमारे विस्तृत रेंज वाले वित्तीय समाधान के महत्व में वृद्धि होगी और ग्राहकों की वित्तीय जरूरतें पूरी होंगी.

रिलायंस कमर्शियल फाइनेंस अब बन गया है रिलायंस मनी.

 

बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स

श्री अरविन्द मायाराम 62 वर्ष, स्वतंत्र निदेशक और लेखापरीक्षा समिति, नामांकन और पारिश्रमिक समिति, कार्पोरेट सामाजिक जवाबदारी समिति, जोखिम प्रबंधन समिति तथा अंशधारक संबंध समिति के सदस्य हैं. 26 फरवरी, 2018 को पहली बार उन्हें हमारी कंपनी के निदेशक के रूप में नियुक्त किया गया था. श्री अरविंद मायाराम भूतपूर्व नौकरशाह और भारत सरकार के कई प्रमुख पदों पर आसीन रहे हैं जिनमें अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय में सचिव, वित्तीय सचिव और वित्त मंत्रालय के आर्थिक कार्य विभाग में सचिव आदि पद शामिल हैं. इससे पहले, वे ग्रामीण विकास मंत्रालय में विशिष्ट सचिव व वित्तीय सलाहकार और भारत सरकार के वित्त मंत्रालय के आर्थिक कार्य विभाग में संयुक्त सचिव (इन्फ्रास्ट्रक्चर एंड एशियन डेवलपमेंट बैंक) जैसे पदों पर कार्यरत रहे हैं.

 

सुश्री दीना मेहता57 वर्ष, स्वतंत्र निदेशक और लेखापरीक्षा समिति, नामांकन और पारिश्रमिक समिति, कार्पोरेट सामाजिक जवाबदारी समिति, जोखिम प्रबंधन समिति तथा अंशधारक संबंध समिति के सदस्य हैं. उन्हें पहली बार 11 मार्च 2016 को निदेशक के रूप में नियुक्त किया गया था. वह चार्टर्ड एकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया (आईसीएआई) की सहयोगी सदस्य हैं और लंदन के प्रतिभूति एवं निवेश संस्थान की फेलो हैं. उन्होंने एनएमआईएमएस से वित्त में विशेषज्ञता और सरकारी लॉ कॉलेज से प्रतिभूति कानून में पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा कोर्स के साथ प्रबंधन अध्ययन में स्नातकोत्तर पूरा किया है. वर्तमान में, वह असित सी. मेहता इंवेस्टमेंट इंटरमीडिएट्स लिमिटेड की प्रबंध निदे​शिका हैं. सिक्योरिटीज़ के क्षेत्र में उनका 20 साल से अधिक का अनुभव है.

 

श्री देवांग मोदी 45 वर्ष, कार्यकारी निदेशक (ईडी) और मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ), उनको वित्तीय क्षेत्र में 20 वर्षों से अधिक का अनुभव प्राप्त है. वे बजाज फाइनेंस से इस कंपनी में आए हैं, जहां उन्होंने उपभोक्ता व्यवसाय के अध्यक्ष के रूप में कार्य किया, और बी-टु-बी और बी-टु-सी ऋण देने वाले व्यवसायों के एक समूह का प्रबंधन किया. उनके नेतृत्व में, बजाज फाइनेंस के उपभोक्ता वित्त कारोबार, बहुत तेज़ी से 300 से अधिक शहरों में फैलकर, अपने वर्तमान आकार में पहुंचा, साथ ही कंपनी ने विभिन्न बिजनेस लाइनों में मार्केट नेतृत्व की स्थिति भी प्राप्त की. पढ़ाई से चार्टर्ड एकाउंटेंट, उन्होंने महाजन और ऐबारा के साथ अपने कैरियर की शुरुआत की, और फिर ईवाय के साथ काम किया। उसके बाद वे जीई मनी फाइनेंशियल सर्विसेज़ में गए, जहां वे वीपी - स्ट्रेटेजिक इनिशिएटिव्स थे, और फिर वे बजाज फाइनेंस में शामिल हुए.

 

श्री लव चतुर्वेदी 42 वर्ष, गैर-कार्यकारी निदेशक, और लेखापरीक्षा समिति, नामांकन और पारिश्रमिक समिति, कार्पोरेट सामाजिक जवाबदारी समिति, तथा जोखिम प्रबंधन समिति के सदस्य हैं. उन्होंने सिराक्यूज विश्वविद्यालय, न्यूयॉर्क से एमबीए किया है. वह यूएसए के सीएफए संस्थान से चार्टर्ड फाइनेंशियल एनालिस्ट भी हैं. वह मुंबई स्थित PRMIA के संचालन समिति के सदस्य हैं. वह वर्तमान में रिलायंस कैपिटल लिमिटेड के प्रमुख जोखिम अधिकारी हैं. उनके पास संयुक्त राज्य अमरीका, स्कॉट्सडेल, एरिज़ोना में फाइसर्व (एक फॉर्च्यून 500 कंपनी) की सहायक कंपनी आईपीएस-सेंडेरो में सीनियर मैनेजमेंट स्तर पर, क्लाइंट को बैलेंस शीट मैनेज करने के रणनीतिक व नीतिगत परामर्श प्रदान करने तथा एडवांस एनालिटिक और नीतिगत मामलों के समाधान में सहायता करने का भी अनुभव है. उन्होंने घरेलू और साथ ही अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर कॉर्पोरेट फाइनेंस, बैंकिंग और कंसल्टिंग इंडस्ट्री में कमर्शियल के साथ-साथ फाइनेंशियल फंक्शन के पूरे स्पेक्ट्रम का गहन अध्ययन किया है.

 

मुख्य प्रबंधकीय कार्मिक (केएमपीएस)

श्री देवांग मोदी 45 वर्ष, कार्यकारी निदेशक (ईडी) और मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ), उनको वित्तीय क्षेत्र में 20 वर्षों से अधिक का अनुभव प्राप्त है. वे बजाज फाइनेंस से इस कंपनी में आए हैं, जहां उन्होंने उपभोक्ता व्यवसाय के अध्यक्ष के रूप में कार्य किया, और बी-टु-बी और बी-टु-सी ऋण देने वाले व्यवसायों के एक समूह का प्रबंधन किया. उनके नेतृत्व में, बजाज फाइनेंस के उपभोक्ता वित्त कारोबार, बहुत तेज़ी से 300 से अधिक शहरों में फैलकर, अपने वर्तमान आकार में पहुंचा, साथ ही कंपनी ने विभिन्न बिजनेस लाइनों में मार्केट नेतृत्व की स्थिति भी प्राप्त की. पढ़ाई से चार्टर्ड एकाउंटेंट, उन्होंने महाजन और ऐबारा के साथ अपने कैरियर की शुरुआत की, और फिर ईवाय के साथ काम किया। उसके बाद वे जीई मनी फाइनेंशियल सर्विसेज़ में गए, जहां वे वीपी - स्ट्रेटेजिक इनिशिएटिव्स थे, और फिर वे बजाज फाइनेंस में शामिल हुए.

 

सुश्री एकता ठकुरेल कंपनी सचिव और अनुपालना अधिकारी, दि इंस्टीट्‌यूट ऑफ कंपनी सेक्रेटरीज ऑफ इंडिया के सहायक सदस्य हैं. उनके पास वित्तीय क्षेत्र में नौ साल का अनुभव है और उन्होंने कंपनी लॉ, कॉरपोरेट गवर्नेंस, आरबीआई और आईआरडीए कंप्लायंस के क्षेत्र में कोटक, एचडीएफसी और अन्य उल्लेखनीय समूहों के साथ काम किया है.

 

श्री संदीप खोसला 38 वर्ष, मुख्य वित्तीय अधिकारी, दि इंस्टीट्‌यूट ऑफ चार्टर्ड एकाउंटैंट्‌स ऑफ इंडिया के एक सदस्य हैं. उनको वित्तीय क्षेत्र में लगभग पन्द्रह वर्षों का अनुभव प्राप्त है और रिलायंस ग्रुप में आने से पहले बजाज फाइनेंस, टाटा कैपिटल और आईसीआईसीआई बैंक लिमिटेड में वरिष्ठ प्रबंधन में शामिल रहे हैं.