ताजा अपडेट के लिए सब्सक्राइब करें

Text to Identify Refresh CAPTCHA कैप्चा रीफ्रेश करें

*साइन-अप करके मैं रिलायंस मनी से ई-मेल प्राप्त करने के लिए सहमत हूं

पीछे जाएं

नंदन नीलेकणी से सीखें लीडरशिप के 5 पाठ

 

नंदन नीलेकणी से सीखें लीडरशिप के 5 पाठ

भारतीय लीडर्स और चेंजमेकर्स में नंदन नीलेकणि का नाम बहुत ही आदर के साथ लिया जाता है। इन्फोसिस के संस्थापक के रूप में उन्होंने एक महान हस्ती का दर्जा हासिल किया और भारत व विदेशों में करोड़ों लोगों के लिए प्रेरणास्रोत बन गए। नीलेकणि के नेतृत्व में भारत सरकार के व्यापक सार्वभौमिक पहचान (यूआईडी) कार्यक्रम या आधार ने भारत में प्रशासन और सामाजिक एकीकरण को बुनियादी रूप से बदल दिया

उनकी बेस्ट-सेलिंग किताब 'इमेजिनिंग इंडियाः दि आइडिया ऑफ ए रिन्यूड नेशन', इस मशहूर हस्ती को सोच से पाठकों को घनिष्ठ रूप से परिचित कराती है। प्रभावी लीडरशिप के बारे में नीलेकणि के पांच प्रमुख विचार यहां दिए गए हैं, जो उनके विचार में बोर्डरूम में तथा इसके बाहर भी भारत का भविष्य रूपांतरित कर सकते हैं

 

1. विचार से नवप्रवर्तन उत्पन्न होता है

भारत की प्रतिस्पर्धी श्रेष्ठता नए विचारों और नवप्रवर्तन पर निर्भर है। बाज़ार में प्रस्तुत किए जाने वाले उत्पाद और सेवाएं, अनिवार्य रूप से किसी आवश्यकता की पूर्ति करने वाले विचार होते हैं जो आधुनिक वाणिज्य का आधार हैं। नीलेकणि देश के राजनैतिक नेतृत्व को ऐसे नए विचार अपनाने के लिए प्रोत्साहित करते हैं, जिनमें क्रमिक तरीके के बजाय रूपांतरणकारी बदलाव लाने की क्षमता हो

चुनौतियां हल करने के लिए बिजनेस लीडर्स को निर्माण-परीक्षण-संचालन पद्धति अपनानी होगी। यह नई प्रक्रियाओं और प्रणालियों के क्रियान्वयन का जोखिम कम कर सकता है, और पहले अपनाने वालों को सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण 'पहल करने वालों का लाभ' प्रदान कर सकता है

 

2. सीखना, परिणाम प्रेरित करता है

नीलेकणि, सीखने को भारत की विकास संबंधी लगभग प्रत्येक चुनौती के समाधान का आधार मानते हैं। उनका ठोस विश्वास है कि स्पष्ट निर्धारित निष्कर्षों के साथ सीखना, आज के बच्चों व युवाओं को उन कुशलताओं व सक्षमताओं से लैस कर सकता है, जो उनके अपने भविष्य साकार करने की जिम्मेदारी लेने की दिशा में उनके लिए आवश्यक हैं

नीलेकणि के अनुसार, प्रतिक्रियाशील टीमें, कंपनियां, और अर्थव्यवस्था बनाने की दिशा में सीखना, हमारे प्रयासों की बुनियाद बन सकता है। लीडर को सदैव अपनी टीम को सीखते रहने के लिए प्रोत्साहित करना होता है ताकि उभरते अवसरों का लाभ उठाया जा सके और नए कौशल विकसित करने के लिए वृद्धि आधारित तरीका अपनाया जाता है

 

3. संतुलित आशावादी दृष्टिकोण

नीलेकणि अति आशावादी दृष्टिकोण को टीम की सफलता के लिए नुकसानदेह मानते हैं। जब लीडर, तथ्यों की उपेक्षा करते हैं, तो वे सम्मुख उपस्थित समस्याएं हल करने के टीम के तरीके को दूषित कर देते हैं। उनका कहना है कि जहां आशावादी दृष्टिकोण ऐसा गुण है जो लीडर में होना चाहिए, वहीं इसका यथार्थवाद से संतुलित तालमेल भी होना बहुत आवश्यक है

निष्कर्ष निर्धारित कर सकने वाले लीडर, आने वाली समस्याओं को पहचान कर उनमें अवसर खोजते हैं और वे इस तरह से अधिक सफलता पाने के लिए टीम का नेतृत्व कर सकते हैं

 

4. तकनीक का लाभ उठाना

कैरियर आईटी पेशेवर के रूप में नीलेकणि तकनीक को सशक्त बनाने का उपाय मानते हैं, जो राष्ट्रीय वृद्धि की गति बढ़ा सकती है। आधार कार्यक्रम की अगुवाई करने वाले नीलेकणि, लागतें कम करने, दक्षता में सुधार करने तथा संसाधनों के इष्टतम उपयोग हेतु तकनीक के उपयोग के पक्षधर हैं

व्यवसायों की प्रकृति तकनीक-सघनता वाली होती है। आधुनिक तकनीक अपनाने से कंपनियां अधिक प्रतिस्पर्धी बन सकती हैं, उत्पादकता बढ़ा सकती हैं, अतिरिक्त खर्चे कम कर सकती हैं और निर्णय दक्षता में सुधार कर सकती हैं। इससे कंपनी व इसके हितधारकों हेतु निवेश पर प्रतिफल बढ़ते हैं

5. परिवर्तन की मानसिकता

बदलाव एक नयी अनवरत सच्चाई है, जिसका सामना व्यवसायों और समाजों को करना होता है, नीलेकणि के अनुसार, अधिकांश वर्तमान व्यावसायिक सोच पर औद्योगिक युग की छाप है। भविष्य के गर्भ में छिपी असीमित संभावनाओं के साथ तालमेल बनाने के लिए, हमें परिवर्तन का वाहक बनना ही होगा

प्रतिस्पर्धा में वृद्धि, तकनीकी तीव्र विकास, तथा नियामकीय गतिविधियां, व्यवसाय में अभूतपूर्व परिवर्तन हैं। नीलेकणि कंपनियों का आह्‌वान करते हैं कि वे परिवर्तन प्रबंधन को अपनी व्यावसायिक निरंतरता और अनुवर्ती प्रबंधन योजनाओं में शामिल करें

लीडर्स को ऐसी टीमें तैयार करनी होंगी, जो बाज़ार व हितधारकों की बदलती ज़रूरतों से तालमेल बनाने वाली व प्रतिक्रिया करने वाली हों। व्यावसायिक निष्कर्ष प्रेरित करने के लिए उनको अपनी टीमों को सशक्त बनाना व उनको जोड़ना होगा

नीलेकणि के महत्त्वपूर्ण विचार, एक लीडर के रूप में उभरने व आपके व्यवसाय को नई ऊंचाईयों पर ले जाने में आपकी मदद कर सकते हैं। इसके साथ ही रिलायंस मनी की ओर से व्यावसायिक विस्तार ऋण आपको आपके उपक्रम की वृद्धि व विस्तार प्रेरित करने हेतु वित्तीय सुदृढ़ता प्रदान करता है