ताजा अपडेट के लिए सब्सक्राइब करें

Text to Identify Refresh CAPTCHA कैप्चा रीफ्रेश करें

*साइन-अप करके मैं रिलायंस मनी से ई-मेल प्राप्त करने के लिए सहमत हूं

पीछे जाएं

अपने छोटे व्यवसाय को ऊर्जा कुशल बनाने के लिए 4 धमाकेदार तरीके

 

अपने छोटे व्यवसाय को ऊर्जा कुशल बनाने के लिए 4 धमाकेदार तरीके

अध्ययनों के अनुसार, व्यवसायों को प्रायः जितनी बिजली की ज़रूरत होती है, उससे वे लगभग 20-30% अधिक का इस्तेमाल करते हैं। इसका निश्चित अर्थ ये हे कि आपके छोटे व्यवसाय के सुचारू संचालन के लिए जितनी बिजली चाहिए, उसका लगभग 30% भंडार बर्बाद कर सकता है। यहां ध्यान देने वाली एक खास बात ये है कि ऊर्जा कुशल बनना, बेहतर उत्पादकता के साथ बड़ी बचत करने का एक सबसे आसान तरीका है

सभी उद्योगों की ऊर्जा आवश्यकताएं सर्वाधिक नहीं होतीं। जहां आपका उद्यम, ऊर्जा पर अत्यधिक निर्भर नहीं हो सकता है, वहीं आपके व्यावसायिक परिवेश में थोड़ी लेकिन महत्त्वपूर्ण कमियां, उससे अधिक ऊर्जा व्यय करा सकती हैं, जितनी इसे ठीक से चलाने के लिए चाहिए

समय रहते ऐसी कमियों को दूर करना, ऊर्जा और लागत बचत करने की कुंजी है। सरल कदम जैसे कि पुरानी तकनीक को उन्नत बनाना, प्रमाणित उत्पादों का उपयोग और इस्तेमाल में न होने के दौरान उपकरण बंद कर देना, ऊर्जा दक्षता बढ़ा सकते हैं, और इससे उत्पादकता और लाभ भी बढ़ते हैं

 

नीचे कुछ सुझाव दिए गए हैं, जो इस संबंध में आपकी मदद कर सकते हैं:

- मोबाइल तकनीक का उपयोग

डेस्कटॉप कम्प्यूटरों द्वारा किए जा सकने वाले लगभग सभी कार्य करने में सक्षम लैपटॉप, बहुत कम बिजली की खपत करते हैं। इसके अलावा, अपने कार्य के लिए आप अधिक स्मार्ट तकनीक-जैसे कि टेबलेट और मोबाइल उपकरणों का उपयोग कर सकते हैं-जिनमें बिजली की बचत करने के कई विकल्प होते हैं, जो पुराने, बड़े उपकरणों की तुलना में बहुत कम बिजली खर्च करते हैं

- केवल प्रमाणित उपकरण खरीदें

प्रमाणित ऊर्जा रेटिंग और अन्य मानदंडों वाले उपकरण ऊर्जा बचत करने तथा पर्यावरण पर प्रभाव कम करने को ध्यान में रखकर डिजाइन किए गए हैं। ऊर्जा प्रमाणन कंपनियों द्वारा रेटेड उत्पाद खरीदने व उपयोग करने पर आपको सर्वोत्तम कार्यप्रदर्शन वाले लागत कुशल उपकरण मिलने की संभावना रहती है, जो ऊर्जा के साथ लंबे समय में बिजली बिलों में भी बचत कराते हैं

 

- इस्तेमाल में न होने पर बिजली के उपकरण डिस्कनेक्ट कर दें

टीवी, रेफ्रिजेरेटर, चार्जर, वायरलेस फोन और अन्य उपकरणों के प्लग लगे रहने पर वे थोड़ी बिजली खर्च करते रहते हैं, चाहे उनके स्विच बंद हों-यह बिजली फैंटम लोड या स्टैंडबाई पॉवर के रूप में खपत की जाती है। उपयोग में न होने पर इन उपकरणों को डिस्कनेक्ट कर देना अच्छा उपाय है जो काफी ऊर्जा बचत कराता है

 

- पुरानी तकनीक को नए में बदलें

नई तकनीक, चाहे यह प्रकाश बल्ब, रेफ्रिजेरेटर, बायोमीट्रिक सिस्टम, या मॉडम के रूप में हो, ऐसी उन्नत खूबियों से लैस होती है जो इन जैसी पुरानी मशीनों से ज्यादा तीव्र होने के साथ कार्यप्रदर्शन दक्षता में भी काफी बढ़ोत्तरी कर सकती है और इस प्रकार ऊर्जा की खपत में कमी लाती है

याद रखें, हालांकि सस्ते और अप्रचलित युक्तियां और उपकरण खरीदकर आप शुरूआत में कुछ पैसे बचा सकते हैं, लेकिन उनके द्वारा बिजली की भारी खपत, ऊर्जा दक्षता को प्रभावित करती है जो अंततः आपके बिजली के बिल में वसूल की जाती है

आप रिलायंस मनी से व्यावसायिक विस्तार ऋण लेकर नवीनतम ऊर्जा बचत तकनीकों में निवेश करके अपनी ऊर्जा लागतों को कम बनाए रख सकते हैं